आध्यात्मिक Hindi SMS

शिवाय विष्णु रुपाय<br/>
शिव रुपाय विष्णवे<br/>
शिवस्य हृदयं विष्णुः<br/>
विष्णोश्च हृदयं शिव:
शिवाय विष्णु रुपाय
शिव रुपाय विष्णवे
शिवस्य हृदयं विष्णुः
विष्णोश्च हृदयं शिव:
मैं आँधियों से क्यों डरूँ जब मेरे अंदर ही तूफ़ान है;
मैं मंदिर मस्जिद क्यों जाऊं जब मेरे अंदर ही भगवान है।
हज़ारों ऐब हैं मुझमे, नहीं कोई हुनर बेशक;<br/>
मेरी खामी को तू मेरी खूबी में तब्दील कर देना;<br/>
मेरी हस्ती है एक खारे समंदर सी मेरे दाता;<br/>
तू अपनी रहमतों से इसको मीठी झील कर देना।
हज़ारों ऐब हैं मुझमे, नहीं कोई हुनर बेशक;
मेरी खामी को तू मेरी खूबी में तब्दील कर देना;
मेरी हस्ती है एक खारे समंदर सी मेरे दाता;
तू अपनी रहमतों से इसको मीठी झील कर देना।
जब हम कठिन परिस्थितियों से गुज़र रहे होते हैं और प्रभु को मौन पाते हैं तो;
याद रखना कि परीक्षा के दौरान शिक्षक हमेशा मौन रहते हैं।
सुख भी बहुत हैं, परेशानियां भी बहुत हैं;<br/>
ज़िंदगी में लाभ बहुत हैं तो हानियां भी बहुत हैं;<br/>
क्या हुआ जो थोड़े ग़म मिले ज़िंदगी में;<br/>
खुदा की हम पर मेहरबानियाँ बहुत हैं।
सुख भी बहुत हैं, परेशानियां भी बहुत हैं;
ज़िंदगी में लाभ बहुत हैं तो हानियां भी बहुत हैं;
क्या हुआ जो थोड़े ग़म मिले ज़िंदगी में;
खुदा की हम पर मेहरबानियाँ बहुत हैं।
मेरी औकात से बाहर मुझे कुछ न करने देना मालिक;<br/>
क्योंकि ज़रूरत से ज्यादा रौशनी भी इंसान को अँधा कर देती है।
मेरी औकात से बाहर मुझे कुछ न करने देना मालिक;
क्योंकि ज़रूरत से ज्यादा रौशनी भी इंसान को अँधा कर देती है।
किसी की गलतियों को बेनक़ाब ना कर;
'ईश्वर' बैठा है, तू हिसाब ना कर।
ज़मीन पे सुकून की तालाश है, मालिक तेरा बंदा कितना उदास है;<br/>
क्यों खोजता है इंसान राहत दुनिया में, जबकि हर मसले का हल तेरी अरदास है।
ज़मीन पे सुकून की तालाश है, मालिक तेरा बंदा कितना उदास है;
क्यों खोजता है इंसान राहत दुनिया में, जबकि हर मसले का हल तेरी अरदास है।
साईं कहते हैं;<br/>
उदास न हो मैं तेरे साथ हूँ;<br/>
सामने नहीं  आस-पास हूँ;<br/>
पलकों को बंद करके दिल से याद करना;<br/>
मैं और कोई नहीं तेरा विश्वास हूँ।
साईं कहते हैं;
उदास न हो मैं तेरे साथ हूँ;
सामने नहीं आस-पास हूँ;
पलकों को बंद करके दिल से याद करना;
मैं और कोई नहीं तेरा विश्वास हूँ।
इबादतें हों कुछ इस तरह से तेरे नाम के साथ;
कि दिन गुज़र जाये तेरी रहमतों के साथ।

Quotes

भगवान सर्वश्रेष्ठ हमेशा उनको देता है जो चुनाव उस पर छोड़ देते हैं।

Trivia

Waheeda Rahman played both mother and lover to Amitabh Bachchan. She played the love interest of Big B in 'Adalat' (1976) and mother in 'Trishul' (1978).

Graffiti

Alimony - When two people make a mistake and one of them continues to pay for it!