• कब तक इंतज़ार करूँ मैं तेरा;<br />
अब इंतज़ार नहीं होता;<br />
तूने जो दिल न लगाया होता तो;<br />
मेरा ये हाल न होता।Upload to Facebook
    कब तक इंतज़ार करूँ मैं तेरा;
    अब इंतज़ार नहीं होता;
    तूने जो दिल न लगाया होता तो;
    मेरा ये हाल न होता।
  • कभी उनकी पलकों से इज़हार होगा;<br />
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा;<br />
गुजर रही है रात उनकी याद में;<br />
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा!Upload to Facebook
    कभी उनकी पलकों से इज़हार होगा;
    दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा;
    गुजर रही है रात उनकी याद में;
    कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा!
  • तेरे इंतज़ार में यह नजरें झुकी हैं;
    तेरा दीदार करने की चाह जगी है;
    ना जानू तेरा नाम ना तेरा पता;
    ना जाने क्यों इस पागल दिल में एक अनजानी सी बेचैनी जगी है।
  • कोई क्यों मेरा इंतज़ार करेगा;<br />
अपनी जिंदगी मेरे लिए बेकार करेगा;<br />
हम कौन से, किसी के लिए ख़ास हैं;<br />
क्या सोचकर कोई हमें याद करेगा!Upload to Facebook
    कोई क्यों मेरा इंतज़ार करेगा;
    अपनी जिंदगी मेरे लिए बेकार करेगा;
    हम कौन से, किसी के लिए ख़ास हैं;
    क्या सोचकर कोई हमें याद करेगा!
  • इंतज़ार हमसे होता नहीं;<br / >
इज़हार में ज़माना लगेगा;<br / >
मेरे इश्क को तुम क्या जानो;<br / >
प्यार में तो परवाना ही जलेगा!Upload to Facebook
    इंतज़ार हमसे होता नहीं;
    इज़हार में ज़माना लगेगा;
    मेरे इश्क को तुम क्या जानो;
    प्यार में तो परवाना ही जलेगा!
  • प्यार उसे करो जो तुमसे प्यार करे;<br / >
खुद से भी ज्यादा तुम पे ऐतबार करे;<br / >
तुम बस एक बार कहो कि रुको दो पल;<br / >
और वो उन दो पलों के लिए पूरी जिंदगी इंतज़ार करे!Upload to Facebook
    प्यार उसे करो जो तुमसे प्यार करे;
    खुद से भी ज्यादा तुम पे ऐतबार करे;
    तुम बस एक बार कहो कि रुको दो पल;
    और वो उन दो पलों के लिए पूरी जिंदगी इंतज़ार करे!
  • नज़र चाहती है दीदार करना;
    दिल चाहता है प्यार करना;
    क्या बताऊं इस दिल का आलम;
    नसीब में लिखा है इंतजार करना।
  • इंतज़ार की आरजू अब खो गई है;<br />
खामोशियों की आदत सी हो गई है;<br />
ना शिकवा रहा ना सिकायत किसी से;<br />
अगर है तो एक मोहब्बत;<br />
जो इन तनहाइयों से हो गई है।
Upload to Facebook
    इंतज़ार की आरजू अब खो गई है;
    खामोशियों की आदत सी हो गई है;
    ना शिकवा रहा ना सिकायत किसी से;
    अगर है तो एक मोहब्बत;
    जो इन तनहाइयों से हो गई है।
  • चाँद सितारों से तेरी बात करते हैं;
    तनहाईयों में तुझे याद करते हैं;
    तुम आओ या ना आओ मर्ज़ी तुम्हारी;
    हम तो हरपल तुम्हारा इंतजार करते हैं।
  • आजा अभी सर्दी का मौसम नहीं गुजरा;
    पहाड़ों पर अभी भी बर्फ जमी है;
    सब कुछ तो है मेरे पास;
    सिर्फ एक तेरी कमी है।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT