• दिल में बसे हो ज़रा ख्याल करना;
    अगर वक़्त मिल जाए तो याद करना;
    मुझे तो आदत है तुम्हे याद करने की;
    तुम्हें अजीब लगे तो माफ़ करना।
  • भूल से कभी हमें भी याद किया करो;
    प्यार नहीं तो शिकायत ही किया करो;
    इतनी भी क्या नाराजगी कि बात ही ना करो;
    मिलना नहीं तो दिल से ही याद किया करो।
  • आज कुछ कमी सी है तेरे बगैर;
    ना रंग है ना रौशनी है तेरे बगैर;
    इतना मत रूठो अब तो माफ़ कर दो मुझे;
    क्योंकि धड़कन थम सी गई है तेरे बगैर!
  • दुआ मांगी थी आशियाने की;
    चल पड़ी आँधियाँ ज़माने की;
    मेरा दर्द कोई नहीं समझ पाया;
    क्योंकि मेरी आदत थी माफ़ करके मुस्कुराने की।
  • ख़्वाब ना टूटे, दिल ना टूटे;
    आप ना हम से रूठें;
    बात ना टूटे, साथ ना छूटे;
    हमारे बीच का ये फ़ासला तो टूटे!
  • चुप रहते हैं क्योंकि कोई खफा ना हो जाए;
    हमसे कोई रुस्वा ना हो जाए;
    बड़ी मुश्किल से पाया है तुम को;
    माफ़ कर देना अगर हमसे कभी कोई खता हो जाए!
  • इस कदर हमारी चाहत का इम्तिहान मत लीजिए;
    क्यों हो खफ़ा यह बयां तो कीजिए;
    कर दीजिए माफ़ अगर हो गई है कोई ख़ता;
    यूँ बात ना कर के सज़ा तो ना दीजिए!
  • हमसे कोई भूल हो जाए तो माफ़ करना;
    याद ना कर पाएं तो माफ़ करना;
    दिल से तो हम आपको भूलेंगे नहीं;
    यह धड़कन ही रुक जाए तो माफ़ करना।
  • माफ़ करना अगर हमने अनजाने में आपको कभी रुला दिया;<br/>
आप ने तो दुनियां के कहने पर हमें भुला दिया;<br/>
हम तो वेसे भी अकेले थे;<br/>
क्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया!Upload to Facebook
    माफ़ करना अगर हमने अनजाने में आपको कभी रुला दिया;
    आप ने तो दुनियां के कहने पर हमें भुला दिया;
    हम तो वेसे भी अकेले थे;
    क्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया!
  • बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से, हो सके तो लौट आ किसी बहाने से;<br/>
तू लाख खफा सही, एक बार तो देख, कोई टूट गया है तेरे रूठ जाने से।Upload to Facebook
    बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से, हो सके तो लौट आ किसी बहाने से;
    तू लाख खफा सही, एक बार तो देख, कोई टूट गया है तेरे रूठ जाने से।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT