• दो लड़के आपस में बात कर रहे थे।<br />
पहला लड़का: इस ज़िन्दगी में मैंने बहुत उतार चढ़ाव देखे हैं।<br />
दूसरा लड़का: क्यों भाई ऐसा क्यों?<br />
पहला लड़का: मॉल में लिफ्ट चलाता हूँ ना इसलिए।Upload to Facebook
    दो लड़के आपस में बात कर रहे थे।
    पहला लड़का: इस ज़िन्दगी में मैंने बहुत उतार चढ़ाव देखे हैं।
    दूसरा लड़का: क्यों भाई ऐसा क्यों?
    पहला लड़का: मॉल में लिफ्ट चलाता हूँ ना इसलिए।
  • बहुत किया इंतज़ार पर वो ना आई यारो,
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    टॉयलेट पे बैठे बैठे पाँव सो गए। लगता है कब्ज़ हो गयी।
  • आज के समय में सबसे बड़ी कुर्बानी वह इंसान देता है,
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    जो अपना फोन चार्जिंग से निकाल कर किसी और का फोन चार्जिंग पे लगा दे!
  • आज पहली बार लड़की की फ्रेंड रिक्वेस्ट आयी और
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    साला ख़ुशी ख़ुशी में 'Not Now' पे क्लिक हो गया।
  • बुजुर्ग कहते है गर्मियों में प्याज खाने से "लू" नहीं लगती।
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    पर उन्हें कौन समझाए कि प्याज खाने के बाद गर्लफ्रेंड भी मुँह नहीं लगती!
  • व्रत के नाम पर 2 किलो अंगूर, 2 दर्जन केले, 1 किलो चीकू, 1 किलो पपीता निपटाने वालो....
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    माता रानी माफ नहीं करेंगी।
  • आज का ज्ञान:<br />
पढाई और जिम 'कल' से शुरू होती है।<br />
सिगरेट और दारू भी 'कल' ही छोड़ी जाती है।Upload to Facebook
    आज का ज्ञान:
    पढाई और जिम 'कल' से शुरू होती है।
    सिगरेट और दारू भी 'कल' ही छोड़ी जाती है।
  • आज का ज्ञान:
    काम ऐसे करो कि लोग आपको
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    दोबारा किसी दूसरे काम के लिए बोलें ही नहीं।
  • मानवता का सच्चा सेवक वह पुरुष है जो इस घनघोर प्रतिस्पर्धा के दौर में भी...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    "स्वीट एंजेल", "डाॅल", "प्रिया", "चार्मिंग पिंकी", "नेहा" के नाम से ID बनाकर सैकड़ो बदकिस्मत लडकों की उम्मीदों को जिन्दा रखे हुए है।
  • एक बात समझ नहीं आ रही<br />
सरस्वती पूजा हम लोग करते हैं लेकिन होशियार बच्चे जापान में पैदा होते हैं।<br />
लक्ष्मी पूजा हम लोग करते हैं लेकिन पैसे वाले अमेरिका में हैं।<br />
विश्वकर्मा पूजा भी हम लोग करते हैं लेकिन तकनीक चीन के पास है।<br />
बहुत गड़बड़ है। ये देवी-देवता चढ़ावा हमसे लेते हैं लेकिन फल किसी और को दे रहे हैं।Upload to Facebook
    एक बात समझ नहीं आ रही
    सरस्वती पूजा हम लोग करते हैं लेकिन होशियार बच्चे जापान में पैदा होते हैं।
    लक्ष्मी पूजा हम लोग करते हैं लेकिन पैसे वाले अमेरिका में हैं।
    विश्वकर्मा पूजा भी हम लोग करते हैं लेकिन तकनीक चीन के पास है।
    बहुत गड़बड़ है। ये देवी-देवता चढ़ावा हमसे लेते हैं लेकिन फल किसी और को दे रहे हैं।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT