• हँस कर जीना यही दस्तूर है ज़िंदगी का;<br/>
एक यही किस्सा मशहूर है ज़िंदगी का;<br/>
बीते हुए पल कभी लौटकर नहीं आते;<br/>
बस यही एक कसूर है ज़िंदगी का।
    हँस कर जीना यही दस्तूर है ज़िंदगी का;
    एक यही किस्सा मशहूर है ज़िंदगी का;
    बीते हुए पल कभी लौटकर नहीं आते;
    बस यही एक कसूर है ज़िंदगी का।
  • क्या है यह ज़िंदगी:<br/>
देखो तो ख्वाब है ये ज़िंदगी;<br/>
पढ़ो तो किताब है ये ज़िंदगी;<br/>
सुनो तो ज्ञान है ये ज़िंदगी;<br/>
हँसते रहो तो आसान है ये ज़िंदगी।
    क्या है यह ज़िंदगी:
    देखो तो ख्वाब है ये ज़िंदगी;
    पढ़ो तो किताब है ये ज़िंदगी;
    सुनो तो ज्ञान है ये ज़िंदगी;
    हँसते रहो तो आसान है ये ज़िंदगी।
  • ज़िंदगी पल-पल ढलती है;<br/>
जैसे रेत मुट्ठी से फिसलती है;<br/>
शिकवे कितने भी हों पर हर पल हँसते रहना;<br/>
क्योंकि ये ज़िंदगी जैसी भी एक है बस एक ही बार मिलती है।
    ज़िंदगी पल-पल ढलती है;
    जैसे रेत मुट्ठी से फिसलती है;
    शिकवे कितने भी हों पर हर पल हँसते रहना;
    क्योंकि ये ज़िंदगी जैसी भी एक है बस एक ही बार मिलती है।
  • दिल से कभी तूने पुकारा ही नहीं;<br/>
चाह कर भी दूर कभी हुआ नहीं;<br/>
वक़्त की बेड़ियों ने किया कमज़ोर सही;<br/>
ज़िंदगी का सही मतलब समझा ही नहीं।
    दिल से कभी तूने पुकारा ही नहीं;
    चाह कर भी दूर कभी हुआ नहीं;
    वक़्त की बेड़ियों ने किया कमज़ोर सही;
    ज़िंदगी का सही मतलब समझा ही नहीं।
  • मौत मिलती है न ज़िंदगी मिलती है;<br/>
ज़िंदगी की राहों में बेबसी मिलती है;<br/>
रुला देते हैं क्यों मेरे अपने;<br/>
जब भी मुझे कोई ख़ुशी मिलती है।
    मौत मिलती है न ज़िंदगी मिलती है;
    ज़िंदगी की राहों में बेबसी मिलती है;
    रुला देते हैं क्यों मेरे अपने;
    जब भी मुझे कोई ख़ुशी मिलती है।
  • तेरे ग़म को अपनी रूह में उतार लूँ;<br/>
ज़िंदगी तेरी चाहत में सवार लूँ;<br/>
मुलाक़ात हो तुझसे कुछ इस तरह;<br/>
तमाम उम्र बस एक मुलाक़ात में गुज़र लूँ।
    तेरे ग़म को अपनी रूह में उतार लूँ;
    ज़िंदगी तेरी चाहत में सवार लूँ;
    मुलाक़ात हो तुझसे कुछ इस तरह;
    तमाम उम्र बस एक मुलाक़ात में गुज़र लूँ।
  • ज़िंदगी में कभी उदास मत होना;<br/>
कभी किसी बात पर निराश मत होना;<br/>
ज़िंदगी संघर्ष है, चलती ही रहेगी;<br/>
कभी अपने जीने का अंदाज़ मत बदलना।
    ज़िंदगी में कभी उदास मत होना;
    कभी किसी बात पर निराश मत होना;
    ज़िंदगी संघर्ष है, चलती ही रहेगी;
    कभी अपने जीने का अंदाज़ मत बदलना।
  • फूल बनके खुशबु फैलना ही है ज़िंदगी;
    हर दर्द को हँसी में छुपा लेना ही है ज़िन्दगी;
    ज़िंदगी में जीत मिली तो क्या हुआ;
    हार कर भी ख़ुशी जताना ही है ज़िंदगी।
  • ज़िंदगी बहुत कुछ सिखाती है, कभी हँसाती है कभी रुलाती है;
    पर जो हर हाल में खुश रहते हैं, ज़िंदगी उनके आगे सिर झुकाती है।
  • सपना ऐसा देखो कि आसमान तक जा सको;<br/>
दुआ ऐसी करो कि खुदा को पा सको;<br/>
यूँ तो ज़िंदगी जीने में बहुत कम पल हैं;<br/>
पर जियो तो ऐसे कि हर पल में ज़िंदगी पा सको।
    सपना ऐसा देखो कि आसमान तक जा सको;
    दुआ ऐसी करो कि खुदा को पा सको;
    यूँ तो ज़िंदगी जीने में बहुत कम पल हैं;
    पर जियो तो ऐसे कि हर पल में ज़िंदगी पा सको।