• लीज पर मिली है ये जिन्दगी,<br/>
रजिस्ट्री के चक्कर में ना पड़ें।
    लीज पर मिली है ये जिन्दगी,
    रजिस्ट्री के चक्कर में ना पड़ें।
  • जीवन में सबसे कठिन दौर यह नहीं है जब कोई तुम्हें समझता नहीं है;<br/>
बल्कि यह तब होता है जब तुम अपने आप को नहीं समझ पाते।
    जीवन में सबसे कठिन दौर यह नहीं है जब कोई तुम्हें समझता नहीं है;
    बल्कि यह तब होता है जब तुम अपने आप को नहीं समझ पाते।
  • पैसे की दौड़ में पाप धोने को मिले ना मिले;<br />
फिर से जीवन में पुण्य कमाने को मिले ना मिले;<br />
कर लो कर्म दिल से;<br />
क्या पता दोबारा ये जीवन मिले ना मिले।
    पैसे की दौड़ में पाप धोने को मिले ना मिले;
    फिर से जीवन में पुण्य कमाने को मिले ना मिले;
    कर लो कर्म दिल से;
    क्या पता दोबारा ये जीवन मिले ना मिले।
  • रोने से किसी को पाया नहीं जाता;<br/>
खोने से किसी को भुलाया नहीं जाता;<br/>
वक्त सबको मिलता है ज़िंदगी बदलने के लिए;<br/>
पर ज़िंदगी नहीं मिलती वक्त बदलने के लिए।
    रोने से किसी को पाया नहीं जाता;
    खोने से किसी को भुलाया नहीं जाता;
    वक्त सबको मिलता है ज़िंदगी बदलने के लिए;
    पर ज़िंदगी नहीं मिलती वक्त बदलने के लिए।
  • मंजिल उन्हीं को मिलती है;
    जिनके सपनो में जान होती है;
    पंख से कुछ नहीं होता;
    हौंसलों से ही उड़ान होती है।
  • हम अपनी ज़िंदगी में हर किसी को इसीलिए एहमियत देते हैं;
    क्योंकि जो अच्छा होगा वो ख़ुशी देगा;
    और जो बुरा होगा वो सबक देगा।
  • जीवन में किसी का 'भला' करोगे,
    तो 'लाभ' होगा क्योंकि 'भला' का उल्टा 'लाभ' होता है।
    और जीवन में किसी पर 'दया' करोगे,
    तो वो 'याद' करेगा क्योंकि 'दया' का उल्टा 'याद' होता है।
  • जब छोटे थे तो ज़ोर-ज़ोर से रोते थे अपनी पसंद को पाने के लिए;
    अब बड़े हो गए हैं तो चुपके से रोते है अपनी पसंद छुपाने के लिए।
  • मैंने ज़िंदगी से पुछा कि तू इतनी कठिन क्यों है?
    ज़िंदगी ने हंसकर कहा, "दुनियां आसान चीज़ों की कद्र नहीं करती"।
  • वक़्त बदलता है ज़िंदगी के साथ;
    ज़िंदगी बदलती है वक़्त के साथ;
    वक़्त नहीं बदलता है अपनों के साथ;
    बस अपने बदल जाते हैं वक़्त के साथ।