दोस्ती Hindi SMS

आना हमारा किसी को गवारा ना हुआ;<br/>
हर मुसाफिर ज़िंदगी का सहारा ना हुआ;<br/>
मिलते हैं बहुत लोग इस तन्हा ज़िंदगी में;<br/>
पर हर दोस्त आप सा प्यारा ना हुआ।
आना हमारा किसी को गवारा ना हुआ;
हर मुसाफिर ज़िंदगी का सहारा ना हुआ;
मिलते हैं बहुत लोग इस तन्हा ज़िंदगी में;
पर हर दोस्त आप सा प्यारा ना हुआ।
दोस्तो् के साथ जीने का एक मौका दे दे, ऐ खुदा;<br/>
तेरे साथ तो हम मरने के बाद भी रह लेंगे।
दोस्तो् के साथ जीने का एक मौका दे दे, ऐ खुदा;
तेरे साथ तो हम मरने के बाद भी रह लेंगे।
तेरी दोस्ती में एक नशा है;
तभी तो यह सारी दुनियां हमसे खफा है;
ना करो हमसे इतनी दोस्ती;
कि दिल ही हमसे पूछे तेरी धड़कन कहाँ है।
गम नहीं वहाँ जहाँ हो फ़साना आपका;<br/>
ख़ुशी भी ढूंढती है हर पल आशियाना आपका;<br/>
आप उदास ना होना कभी ज़िंदगी में;<br/>
बहुत अच्छा लगता है हमें दोस्ताना आपका।
गम नहीं वहाँ जहाँ हो फ़साना आपका;
ख़ुशी भी ढूंढती है हर पल आशियाना आपका;
आप उदास ना होना कभी ज़िंदगी में;
बहुत अच्छा लगता है हमें दोस्ताना आपका।
आंसू तेरे निकलें तो आँखें मेरी हों;
दिल तेरा धड़के तो धड़कन मेरी हो;
खुदा करे दोस्ती हमारी इतनी गहरी हो;
कि सड़क पर तू पिटे और गलती मेरी हो।
भगवान कहते हैं कि तुम किसी का कुछ ना बिगाड़ो;
ऐ दोस्त, तुम निश्चिन्त रहो, मैं तुम्हारा कुछ बिगड़ने नहीं दूंगा।
सच्ची दोस्ती का मतलब है:
जब एक दोस्त अपनी आखिरी साँसें ले रहा हो और उसका दोस्त आँखों में आंसू ले आए और कहे, "चल उठ यार! आज आखिरी समय मौत की क्लास बंक(Bunk) करते हैं।
हमारी ज़िंदगी है दोस्तों की अमानत;<br/>
रखना मेरे खुदा सदा उनको सलामत;<br/>
देना उन्हें खुशियाँ सारे जहान की;<br/>
बन जाए वो तारीफ हर एक ज़ुबान की।
हमारी ज़िंदगी है दोस्तों की अमानत;
रखना मेरे खुदा सदा उनको सलामत;
देना उन्हें खुशियाँ सारे जहान की;
बन जाए वो तारीफ हर एक ज़ुबान की।
दोस्ती का हक़ हम अदा यूँ करते हैं;<br/>
तेरे नाम पे जान भी फ़िदा करते हैं;<br/>
तुझको फूल भी ज़ख्म ना दे पाएं;<br/>
खुदा से हर दम यही दुआ करते हैं।
दोस्ती का हक़ हम अदा यूँ करते हैं;
तेरे नाम पे जान भी फ़िदा करते हैं;
तुझको फूल भी ज़ख्म ना दे पाएं;
खुदा से हर दम यही दुआ करते हैं।
हर कर्ज़ दोस्ती का अदा कौन करेगा;<br/>
जब हम ही नहीं रहेंगे तो दोस्ती कौन करेगा;<br/>
ऐ खुदा, मेरे दोस्त को सदा सलामत रखना;<br/>
वरना मेरे जीने की दुआ कौन करेगा।
हर कर्ज़ दोस्ती का अदा कौन करेगा;
जब हम ही नहीं रहेंगे तो दोस्ती कौन करेगा;
ऐ खुदा, मेरे दोस्त को सदा सलामत रखना;
वरना मेरे जीने की दुआ कौन करेगा।

Quotes

​श्रमशक्ति में एकता बिना ताकत नहीं होती, और जब इन दोनों में सामजस्य बैठा लिया जाता है, और पूरी तरह से एक जूट हुआ जाता हैं तभी यह एक आध्यात्मिक शक्ति बनती है।

Trivia

'Dreamt' is the only word in the English language that ends with 'MT'.

Graffiti

If speed scares you, try Windows!