• लगता है साला हमारे हाथों में Love Line है ही नहीं,<br/>
शायद बचपन में चूरन चाटते समय, उसे भी चाट गए।Upload to Facebook
    लगता है साला हमारे हाथों में Love Line है ही नहीं,
    शायद बचपन में चूरन चाटते समय, उसे भी चाट गए।
  • भारी मशक्कत के बाद वॉशिंग मशीन को ठीक करके खुद को मैकेनिक मानने के साथ ये भी समझ आया कि कैसे हर सफल पुरुष के पीछे एक स्त्री का हाथ होता है।Upload to Facebook
    भारी मशक्कत के बाद वॉशिंग मशीन को ठीक करके खुद को मैकेनिक मानने के साथ ये भी समझ आया कि कैसे हर सफल पुरुष के पीछे एक स्त्री का हाथ होता है।
  • वो आज भी सर्दी में ठिठुर रही है दोस्तों;<br/>
मैंने एक बार बस इतना कहा कि स्वेटर के बिना कैटरीना लगती हो।Upload to Facebook
    वो आज भी सर्दी में ठिठुर रही है दोस्तों;
    मैंने एक बार बस इतना कहा कि स्वेटर के बिना कैटरीना लगती हो।
  • सो कर उठने वाले लोग या तो खूबसूरत दिखते हैं या फिर अजीब से।<br/>
सिर्फ टकले ही ऐसे हैं जो सोने से पहले और सो कर उठने के बाद भी एक जैसे दिखते हैं।Upload to Facebook
    सो कर उठने वाले लोग या तो खूबसूरत दिखते हैं या फिर अजीब से।
    सिर्फ टकले ही ऐसे हैं जो सोने से पहले और सो कर उठने के बाद भी एक जैसे दिखते हैं।
  • इंसान की अदभुत इच्छा:<br/>
पत्नी अच्छी एवं संस्कारी होनी चाहिए और पड़ोसन खुले विचारों की।Upload to Facebook
    इंसान की अदभुत इच्छा:
    पत्नी अच्छी एवं संस्कारी होनी चाहिए और पड़ोसन खुले विचारों की।
  • फ़ास्ट फ़ूड खाने से आदमी फ़ास्ट नहीं हो जाता। स्मार्ट फ़ोन रखने से स्मार्ट नहीं हो जाता।<br/>
लेकिन लूज मोशन होने से `लूज` ज़रूर हो जाता है।<br/>
दिवाली की बची हुई मिठाई संभाल के खाना रे बाबा।Upload to Facebook
    फ़ास्ट फ़ूड खाने से आदमी फ़ास्ट नहीं हो जाता। स्मार्ट फ़ोन रखने से स्मार्ट नहीं हो जाता।
    लेकिन लूज मोशन होने से "लूज" ज़रूर हो जाता है।
    दिवाली की बची हुई मिठाई संभाल के खाना रे बाबा।
  • भले ही तुम्हारी गर्लफ्रेंड बला की खूबसूरत क्यों न हो,<br/>
माँ को तो वो बस बंदरिया ही नज़र आती है।Upload to Facebook
    भले ही तुम्हारी गर्लफ्रेंड बला की खूबसूरत क्यों न हो,
    माँ को तो वो बस बंदरिया ही नज़र आती है।
  • एक निवेदन:<br/>
अब दिवाली बीत गयी है तो पटाके ना छोड़ें, अपने घर वालों से भी मिलवाएं और शादी की बात करें।Upload to Facebook
    एक निवेदन:
    अब दिवाली बीत गयी है तो पटाके ना छोड़ें, अपने घर वालों से भी मिलवाएं और शादी की बात करें।
  • हमारे कमीनेपन की हद मत पूछ गालिब,<br/>
हम तो बचपन में दोसत को साईकल के आगे बिठाकर,जान बूझकर उसकी ऊंगलियां ब्रेक में भींच दिया करते थे।Upload to Facebook
    हमारे कमीनेपन की हद मत पूछ गालिब,
    हम तो बचपन में दोसत को साईकल के आगे बिठाकर,जान बूझकर उसकी ऊंगलियां ब्रेक में भींच दिया करते थे।
  • दारु का ठेका और पतंजलि की दुकान भारत के किसी भी कोने में मिल सकती हैं।Upload to Facebook
    दारु का ठेका और पतंजलि की दुकान भारत के किसी भी कोने में मिल सकती हैं।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT