• आज का कुविचार:
    जिन्दगी में कभी कोई गलती हो जाये तो घबराओ मत बस 2 मिनट आँखे बंद कर सोचो कि...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    इसका इल्जाम किस पर थोपें।
  • क्या आपने कभी सोचा है कि अगर धाग अच्छे हैं तो फिर...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    'Surf Excel' क्यों बनाया?
  • ना जाने वो हमसे क्या छुपाती थी,
    कुछ था उसके होंठों पे, मगर ना जाने क्यों शर्माती थी,
    जब मुँह खुलवाया तो पता चला कि...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    कमबख्त गुटखा खाती थी।
  • अरे हमारी ताक़त और काबिलियत पर यूँ शक ना करो<br />
हमने तो हवा में हाथी तक उड़ाए हैं,<br />
हाँ वो बात अलग है कि अब हमने `चिड़िया उड़, तोता उड़` खेलना छोड़ दिया है।Upload to Facebook
    अरे हमारी ताक़त और काबिलियत पर यूँ शक ना करो
    हमने तो हवा में हाथी तक उड़ाए हैं,
    हाँ वो बात अलग है कि अब हमने "चिड़िया उड़, तोता उड़" खेलना छोड़ दिया है।
  • माँ-बाप कितनी मन्नतें की, दर दर की ठोकरें खायी कि एक बेटा हो जाये और...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    वो हरामखोर Facebook पे 'Angel Priya' बना बैठा है।
  • अपने देश मेँ जितने भी ट्रक के पीछे लिखा होता है,
    "बुरी नजर वाले तेरा मुँह काला"
    आप यकीन मानो यदि हकीकत मेँ ऐसा ही होता तो... अब तक हमारा देश "वैस्ट ईँडीज" बन चुका होता।
  • दुखी माँ बाबा से: बाबा जी मेरे 1000/- रुपये वापस करो।<br />
बाबा: क्यों बालिके?<br />
माँ: आप ने कहा था सब शनि का दोष है, इसलिए बेटा नहीं पढ़ता। मैंने शनिवार के व्रत रखे, तेल चढ़ाया, मेरे बेटे ने रात भर कंप्यूटर पे पढ़ाई की फिर भी फेल हो गया।<br />
बाबा: बालिके मैंने तो कहा था कि सब `सनी` का दोष है।Upload to Facebook
    दुखी माँ बाबा से: बाबा जी मेरे 1000/- रुपये वापस करो।
    बाबा: क्यों बालिके?
    माँ: आप ने कहा था सब शनि का दोष है, इसलिए बेटा नहीं पढ़ता। मैंने शनिवार के व्रत रखे, तेल चढ़ाया, मेरे बेटे ने रात भर कंप्यूटर पे पढ़ाई की फिर भी फेल हो गया।
    बाबा: बालिके मैंने तो कहा था कि सब "सनी" का दोष है।
  • बदसूरत होना गुनाह नहीं है पर बंदर जैसी शक्ल लेकर वाहियात पोज़ के साथ फेसबुक पर फोटो डाल 50 लोगों को टैग करना आतंकवाद है।
  • स्वामी विवेकानंद जी ने कहा था,
    "समझदार आदमी से की गयी कुछ मिनट की बात हज़ारो किताबे पढ़ने से कहीं बेहतर होती है।"
    इसलिए...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    मैं Online हूँ।
  • इतिहास गवाह है,
    लडकी की विदाई के समय इतना दु:ख उसके माँ-बाप को भी नही होता,
    जितना दु:ख आस-पडोस के लडकों को होता है।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT