• तेरी मोहब्बत में एक अजब सा नशा है;<br/>
तभी तो सारी दुनिया हमसे ख़फ़ा है;<br/>
ना करो तुम हमसे इतनी मोहब्बत;<br/>
कि दिल ही हमसे पूछे बता तेरी धड़कन कहाँ है।
    तेरी मोहब्बत में एक अजब सा नशा है;
    तभी तो सारी दुनिया हमसे ख़फ़ा है;
    ना करो तुम हमसे इतनी मोहब्बत;
    कि दिल ही हमसे पूछे बता तेरी धड़कन कहाँ है।
  • कोई है जिसका इस दिल को इंतज़ार है;<br/>
ख्यालों में भी बस उसका ही ख्याल है;<br/>
खुशियां मैं सारी उस पर लुटा दूँ;<br/>
कब आएगा वो चाहने वाला जिसका इस दिल को इंतज़ार है।
    कोई है जिसका इस दिल को इंतज़ार है;
    ख्यालों में भी बस उसका ही ख्याल है;
    खुशियां मैं सारी उस पर लुटा दूँ;
    कब आएगा वो चाहने वाला जिसका इस दिल को इंतज़ार है।
  • कहा ये किसी ने कि फूलों से दिल लगाऊं मैं;<br/>
अगर तेरा ख्याल न सोचूं तो मर जाऊं मैं;<br/>
माँग ना मुझसे तू हिसाब मेरी मोहब्बत का;<br/>
आ जाऊं इम्तिहान पे तो हद से गुज़र जाऊं मैं।
    कहा ये किसी ने कि फूलों से दिल लगाऊं मैं;
    अगर तेरा ख्याल न सोचूं तो मर जाऊं मैं;
    माँग ना मुझसे तू हिसाब मेरी मोहब्बत का;
    आ जाऊं इम्तिहान पे तो हद से गुज़र जाऊं मैं।
  • कभी ना गिरना कमाल नहीं;<br/>
बल्कि गिरकर संभल जाना कमाल है;<br/>
किसी को पा लेना मोहब्बत नहीं;<br/>
बल्कि किसी के दिल में जगह बनाना कमाल है।
    कभी ना गिरना कमाल नहीं;
    बल्कि गिरकर संभल जाना कमाल है;
    किसी को पा लेना मोहब्बत नहीं;
    बल्कि किसी के दिल में जगह बनाना कमाल है।
  • जज़्बात बहक जाते हैं जब तुमसे मिलते हैं;<br/>
अरमान मचल जाते हैं जब तुमसे मिलते हैं;<br/>
आँखों से आँखें, हाथों से हाथ मिल जाते हैं;<br/>
दिल से दिल, रूह से रूह मिल जाती है, जब तुमसे मिलते हैं।
    जज़्बात बहक जाते हैं जब तुमसे मिलते हैं;
    अरमान मचल जाते हैं जब तुमसे मिलते हैं;
    आँखों से आँखें, हाथों से हाथ मिल जाते हैं;
    दिल से दिल, रूह से रूह मिल जाती है, जब तुमसे मिलते हैं।
  • सिर्फ इतना ही कहा है कि प्यार है तुमसे;<br/>
जज़्बातों की कोई नुमाईश नहीं की;<br/>
प्यार के बदले सिर्फ प्यार माँगा है;<br/>
इससे ज्यादा तो कभी कोई गुज़ारिश नहीं की।
    सिर्फ इतना ही कहा है कि प्यार है तुमसे;
    जज़्बातों की कोई नुमाईश नहीं की;
    प्यार के बदले सिर्फ प्यार माँगा है;
    इससे ज्यादा तो कभी कोई गुज़ारिश नहीं की।
  • ना तसवीर है तुम्हारी जो दीदार किया जाये;<br/>
ना तुम हो पास जो प्यार किया जाये;<br/>
ये कौन सा दर्द दिया है तुमने ऐ सनम;<br/>
ना कुछ कहा जाये, ना तुम बिन रहा जाये।
    ना तसवीर है तुम्हारी जो दीदार किया जाये;
    ना तुम हो पास जो प्यार किया जाये;
    ये कौन सा दर्द दिया है तुमने ऐ सनम;
    ना कुछ कहा जाये, ना तुम बिन रहा जाये।
  • तू ही बता दिल कि तुम्हें समझाऊं कैसे;<br/>
जिसे चाहता है तू उसे नज़दीक लाऊँ कैसे;<br/>
यूँ तो हर तमन्ना हर एहसास है वो मेरा;<br/>
मगर उस एहसास को ये एहसास दिलाऊं कैसे।
    तू ही बता दिल कि तुम्हें समझाऊं कैसे;
    जिसे चाहता है तू उसे नज़दीक लाऊँ कैसे;
    यूँ तो हर तमन्ना हर एहसास है वो मेरा;
    मगर उस एहसास को ये एहसास दिलाऊं कैसे।
  • वो करते हैं बात इश्क़ की;<br/>
पर इश्क़ के दर्द का उन्हें एहसास नहीं;<br/>
इश्क़ वो चाँद है जो दिखता तो है सबको;<br/>
पर उसे पाना सब के बस की बात नहीं।
    वो करते हैं बात इश्क़ की;
    पर इश्क़ के दर्द का उन्हें एहसास नहीं;
    इश्क़ वो चाँद है जो दिखता तो है सबको;
    पर उसे पाना सब के बस की बात नहीं।
  • तेरे हाथ की मैं वो लकीर बन जाऊं;<br/>
सिर्फ मैं ही तेरा मुकद्दर तेरी तक़दीर बन जाऊं;<br/>
इतना चाहूँ मैं तुम्हें कि तू हर रिश्ता भूल जाये;<br/>
और सिर्फ मैं ही तेरे हर रिश्ते की तस्वीर बन जाऊं।
    तेरे हाथ की मैं वो लकीर बन जाऊं;
    सिर्फ मैं ही तेरा मुकद्दर तेरी तक़दीर बन जाऊं;
    इतना चाहूँ मैं तुम्हें कि तू हर रिश्ता भूल जाये;
    और सिर्फ मैं ही तेरे हर रिश्ते की तस्वीर बन जाऊं।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT