• ना तसवीर है तुम्हारी जो दीदार किया जाये;<br/>
ना तुम हो पास जो प्यार किया जाये;<br/>
ये कौन सा दर्द दिया है तुमने ऐ सनम;<br/>
ना कुछ कहा जाये, ना तुम बिन रहा जाये।
    ना तसवीर है तुम्हारी जो दीदार किया जाये;
    ना तुम हो पास जो प्यार किया जाये;
    ये कौन सा दर्द दिया है तुमने ऐ सनम;
    ना कुछ कहा जाये, ना तुम बिन रहा जाये।
  • तू ही बता दिल कि तुम्हें समझाऊं कैसे;<br/>
जिसे चाहता है तू उसे नज़दीक लाऊँ कैसे;<br/>
यूँ तो हर तमन्ना हर एहसास है वो मेरा;<br/>
मगर उस एहसास को ये एहसास दिलाऊं कैसे।
    तू ही बता दिल कि तुम्हें समझाऊं कैसे;
    जिसे चाहता है तू उसे नज़दीक लाऊँ कैसे;
    यूँ तो हर तमन्ना हर एहसास है वो मेरा;
    मगर उस एहसास को ये एहसास दिलाऊं कैसे।
  • वो करते हैं बात इश्क़ की;<br/>
पर इश्क़ के दर्द का उन्हें एहसास नहीं;<br/>
इश्क़ वो चाँद है जो दिखता तो है सबको;<br/>
पर उसे पाना सब के बस की बात नहीं।
    वो करते हैं बात इश्क़ की;
    पर इश्क़ के दर्द का उन्हें एहसास नहीं;
    इश्क़ वो चाँद है जो दिखता तो है सबको;
    पर उसे पाना सब के बस की बात नहीं।
  • तेरे हाथ की मैं वो लकीर बन जाऊं;<br/>
सिर्फ मैं ही तेरा मुकद्दर तेरी तक़दीर बन जाऊं;<br/>
इतना चाहूँ मैं तुम्हें कि तू हर रिश्ता भूल जाये;<br/>
और सिर्फ मैं ही तेरे हर रिश्ते की तस्वीर बन जाऊं।
    तेरे हाथ की मैं वो लकीर बन जाऊं;
    सिर्फ मैं ही तेरा मुकद्दर तेरी तक़दीर बन जाऊं;
    इतना चाहूँ मैं तुम्हें कि तू हर रिश्ता भूल जाये;
    और सिर्फ मैं ही तेरे हर रिश्ते की तस्वीर बन जाऊं।
  • जीने की उसने हमे नई अदा दी है;<br/>
खुश रहने की उसने दुआ दी है;<br/>
ऐ खुदा उसको खुशियाँ तमाम देना;<br/>
जिसने अपने दिल मे हमें जगह दी है।
    जीने की उसने हमे नई अदा दी है;
    खुश रहने की उसने दुआ दी है;
    ऐ खुदा उसको खुशियाँ तमाम देना;
    जिसने अपने दिल मे हमें जगह दी है।
  • सितम को हमने बेरुखी समझा;<br/>
प्यार को हमने बंदगी समझा;<br/>
तुम चाहे हमे जो भी समझो;<br/>
हमने तो तुम्हे अपनी ज़िंदगी समझा।
    सितम को हमने बेरुखी समझा;
    प्यार को हमने बंदगी समझा;
    तुम चाहे हमे जो भी समझो;
    हमने तो तुम्हे अपनी ज़िंदगी समझा।
  • तेरी बेरुखी को भी रुतबा दिया हमने;<br/>
प्यार का हर फ़र्ज़ भी अदा किया हमने;<br/>
मत सोच कि हम भूल गए हैं तुझे;<br/>
आज भी खुदा से पहले तुझे याद किया है हमने।
    तेरी बेरुखी को भी रुतबा दिया हमने;
    प्यार का हर फ़र्ज़ भी अदा किया हमने;
    मत सोच कि हम भूल गए हैं तुझे;
    आज भी खुदा से पहले तुझे याद किया है हमने।
  • पहली मोहब्बत थी मेरी हम ये जान न सके;<br/>
प्यार क्या होता है वो पहचान न सके;<br/>
हमने उन्हें दिल में बसाया है इस कदर कि;<br/>
जब भी चाहा दिल से हम उसे निकाल न सके।
    पहली मोहब्बत थी मेरी हम ये जान न सके;
    प्यार क्या होता है वो पहचान न सके;
    हमने उन्हें दिल में बसाया है इस कदर कि;
    जब भी चाहा दिल से हम उसे निकाल न सके।
  • बात करने से पहले सोचता हूँ क्या कहना है;<br/>
बात होने के बाद फिर कुछ कहना रह जाता है;<br/>
अगर होता है इतना खूबसूरत ये प्यार;<br/>
तो फिर क्यों अक्सर ये अधूरा रह जाता है।
    बात करने से पहले सोचता हूँ क्या कहना है;
    बात होने के बाद फिर कुछ कहना रह जाता है;
    अगर होता है इतना खूबसूरत ये प्यार;
    तो फिर क्यों अक्सर ये अधूरा रह जाता है।
  • इश्क़ ने हमें बेनाम कर दिया;<br/>
हर ख़ुशी से हमें अंजान कर दिया;<br/>
हमने तो कभी नहीं चाहा कि हमें भी मोहब्बत हो;<br/>
लेकिन आप की एक नज़र ने हमे नीलाम कर दिया।
    इश्क़ ने हमें बेनाम कर दिया;
    हर ख़ुशी से हमें अंजान कर दिया;
    हमने तो कभी नहीं चाहा कि हमें भी मोहब्बत हो;
    लेकिन आप की एक नज़र ने हमे नीलाम कर दिया।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT