• चिलगोज़ी की खुश्बू, मूंगफली की बहार;
    सर्दी का मौसम आने को बेक़रार;
    थोड़ी सी मस्ती थोडा सा प्यार;
    मफलर, स्वेटर रखो तैयार;
    हैप्पी विंटर सीजन मेरे यार।
  • वो आज भी सर्दी में ठिठुर रही है दोस्तों;
    मैंने एक बार बस इतना कहा कि;
    "स्वेटर के बिना कैटरीना लगती हो।"
  • दो बार लिप्स पे;
    2 बार गाल पे;
    2 बार माथे पे;
    2 बार आँखों पे;
    चुंबन उम्बन (Kiss wiss) नहीं ओए;
    कोल्ड क्रीम जरूर लगाना सर्दी आ गई है न।
    हैप्पी सर्दी!
  • हल्की सर्दी का ज़माना है;
    मौसम भी सुहाना है;
    1-2 प्यारे sms तो कर दो;
    क्या बैलेंस को अगले जन्म तक चलाना है।
  • अगर भीगने का इतना ही शौक है बारिश में तो देखो ना मेरी आँखों में;
    बारिश तो हर एक के लिए होती है;
    लेकिन ये आँखें सिर्फ तुम्हारे लिए बरसती हैं।
  • ये मौसम भी कितना प्यार है;
    करती ये हवाएं कुछ इशारा है;
    जरा समझो इनके जज्बातों को;
    ये कह रही हैं किसी ने दिल से पुकारा है।
  • जब जब आता है ये बरसात का मौसम;<br/>
तेरी याद होती है साथ हमदम;<br/>
इस मौसम में नहीं करेंगे याद तुझे ये सोचा है हमने;<br/>
पर फिर सोचा कैसे बारिश को रोक पायेंगे हम।
    जब जब आता है ये बरसात का मौसम;
    तेरी याद होती है साथ हमदम;
    इस मौसम में नहीं करेंगे याद तुझे ये सोचा है हमने;
    पर फिर सोचा कैसे बारिश को रोक पायेंगे हम।
  • उनका वादा है कि वो लौट आयेंगे;
    इसी उम्मीद पर हम जिये जायेंगे;
    ये इतंजार भी उन्ही की तरह प्यारा है;
    कर रहे थे कर रहे हैं और किये जायेंगे।
  • सावन ने भी किसी से प्यार किया था;<br />
उसने भी बादल का नाम दिया था;<br />
रोते थे दोनों एक दूसरे की जुदाई में;<br />
और लोगों ने उसे बारिश का नाम दिया था।
    सावन ने भी किसी से प्यार किया था;
    उसने भी बादल का नाम दिया था;
    रोते थे दोनों एक दूसरे की जुदाई में;
    और लोगों ने उसे बारिश का नाम दिया था।
  • आज बादल काले घने हैं;<br />
आज चाँद पे लाखों पहरे हैं;<br />
कुछ टुकड़े तुम्हारी यादों के;<br />
बड़ी देर से दिल में ठहरे हैं।<br />
शुभ वर्षा ऋतू!
    आज बादल काले घने हैं;
    आज चाँद पे लाखों पहरे हैं;
    कुछ टुकड़े तुम्हारी यादों के;
    बड़ी देर से दिल में ठहरे हैं।
    शुभ वर्षा ऋतू!