• दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूँ;
    प्यार का उसे पैगाम क्या दूँ;
    इस दिल में दर्द नहीं उसकी यादे हैं;
    अब यादे ही दर्द दें;
    तो उसे इलज़ाम क्या दूँ!
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT