• न माँ की मार से, न पिता के अत्याचार से;<br />
न लड़की के इंकार से, न ही चप्पलों की मार से;<br />
लड़के डरते हैं, तो बस 'राखी' के त्योंहार से!<br />
रक्षा बंधन का हार्दिक अभिनन्दन!
Upload to Facebook
    न माँ की मार से, न पिता के अत्याचार से;
    न लड़की के इंकार से, न ही चप्पलों की मार से;
    लड़के डरते हैं, तो बस 'राखी' के त्योंहार से!
    रक्षा बंधन का हार्दिक अभिनन्दन!
  • आसमान पर सितारे है जितने, उतनी जिंदगी हो तेरी;<br />
किसी की नज़र न लगे, दुनिया की हर ख़ुशी हो तेरी;<br />
रक्षाबंधन के दिन भगवान से बस यह दुआ है, मेरी!<br />
रक्षा बंधन का हार्दिक अभिनन्दन!
Upload to Facebook
    आसमान पर सितारे है जितने, उतनी जिंदगी हो तेरी;
    किसी की नज़र न लगे, दुनिया की हर ख़ुशी हो तेरी;
    रक्षाबंधन के दिन भगवान से बस यह दुआ है, मेरी!
    रक्षा बंधन का हार्दिक अभिनन्दन!
  • राखी का त्योहार है;<br />
राखी बंधवाने को भाई भी तैयार है;<br />
भाई बोला, `बहना मेरी, अब तो राखी मुझे बाँध दो`;<br />
बहना बोली, `कलाई पीछे करो मेरे भाई, पहले रुपये हज़ार दो`!Upload to Facebook
    राखी का त्योहार है;
    राखी बंधवाने को भाई भी तैयार है;
    भाई बोला, "बहना मेरी, अब तो राखी मुझे बाँध दो";
    बहना बोली, "कलाई पीछे करो मेरे भाई, पहले रुपये हज़ार दो"!
  • लाल गुलाबी रंग है, जम रहा संसार;<br />
सूरज की किरणों से खुशियों की बहार;<br />
बधाई हो आपको 'राखी' का त्योहार!Upload to Facebook
    लाल गुलाबी रंग है, जम रहा संसार;
    सूरज की किरणों से खुशियों की बहार;
    बधाई हो आपको 'राखी' का त्योहार!
  • आया है, एक त्योहार;
    जिसमे होता है, भाई और बहन का प्यार;
    सारी दुनिया से प्यारी मेरी बहना का प्यार;
    चलो मनाये ख़ुशियो का यह राखी का त्योहार!
  • उसका हुस्न गया कलेजा चीर;
    नयनों से छूटा उसके लिए तीर;
    बहना बोली, "अब तो राखी बँधवाले, मेरे वीर(भाई)!"
  • भैया मेरे, राखी के बंधन को निभाना;
    तुम कुंवारे रहे, लेकिन मेरी शादी जरूर कराना!
  • खुदा करे तुझे खुशियाँ हज़ार मिलें;
    मुझसे भी अच्छा तुझे यार मिले;
    मेरी गर्लफ्रेंड तुझे बांधे राखी;
    तुझे एक और बहन का प्यार मिले!
  • आज का दिन बहुत ख़ास है;
    बहना के लिए बहुत कुछ मेरे पास है;
    तेरे सुकून की खातिर ओ बहना;
    तेरा भाई हमेशा तेरे पास है!
  • चम्-चम् करके आई;
    चम्-चम् करके चली गयी;
    मैं सिन्दूर लेके खड़ा रहा;
    और वो राखी बांध के चली गयी!
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT