• कुछ मीठे पल याद आते हैं;<br />
पलकों पर आँसू छोड़ जाते हैं;<br />
कल कोई और मिल जाये तो हमें न भूलना;<br />
क्योंकि कुछ रिश्ते उम्र भर काम आते हैं।Upload to Facebook
    कुछ मीठे पल याद आते हैं;
    पलकों पर आँसू छोड़ जाते हैं;
    कल कोई और मिल जाये तो हमें न भूलना;
    क्योंकि कुछ रिश्ते उम्र भर काम आते हैं।
  • ना छुपाना कोई बात दिल में हो अगर;<br />
रखना थोड़ा भरोसा हम पर;<br />
हम निभाएंगे प्यार का यह रिश्ता इस कदर;<br />
कि भुलाने पर भी ना भुला पाओगे हमें ज़िंदगी भर।Upload to Facebook
    ना छुपाना कोई बात दिल में हो अगर;
    रखना थोड़ा भरोसा हम पर;
    हम निभाएंगे प्यार का यह रिश्ता इस कदर;
    कि भुलाने पर भी ना भुला पाओगे हमें ज़िंदगी भर।
  • दूर हो जाने से रिश्ते नहीं टूटते;<br />
न ही सिर्फ पास रहने से जुड़ते हैं;<br />
ये तो दिलों के बंधन हैं इसलिए;<br />
हम तुम्हें और तुम हमें नहीं भूलते।Upload to Facebook
    दूर हो जाने से रिश्ते नहीं टूटते;
    न ही सिर्फ पास रहने से जुड़ते हैं;
    ये तो दिलों के बंधन हैं इसलिए;
    हम तुम्हें और तुम हमें नहीं भूलते।
  • कोई टूटे तो उसे बनाना सीखो;<br />
कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो;<br />
रिश्ते तो मिलते हैं मुक़द्दर से बस;<br />
उन्हें ख़ूबसूरती से निभाना सीखो।Upload to Facebook
    कोई टूटे तो उसे बनाना सीखो;
    कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो;
    रिश्ते तो मिलते हैं मुक़द्दर से बस;
    उन्हें ख़ूबसूरती से निभाना सीखो।
  • यहाँ कौन किसका रकीब होता है;<br />
कौन किसका हबीब होता है;<br />
बन जाते हैं रिश्ते इस दुनिया में;<br />
जहाँ जहाँ जिसका नसीब होता है।Upload to Facebook
    यहाँ कौन किसका रकीब होता है;
    कौन किसका हबीब होता है;
    बन जाते हैं रिश्ते इस दुनिया में;
    जहाँ जहाँ जिसका नसीब होता है।
  • दौलत की भूख ऐसी थी कि कमाने निकल गए;<br />
दौलत मिली तो हाथ से रिश्ते निकल गए;<br />
बच्चों के साथ रहने की फुर्सत ना मिल सकी;<br />
और जब फुर्सत मिली तो बच्चे खुद ही दौलत कमाने निकल गए।Upload to Facebook
    दौलत की भूख ऐसी थी कि कमाने निकल गए;
    दौलत मिली तो हाथ से रिश्ते निकल गए;
    बच्चों के साथ रहने की फुर्सत ना मिल सकी;
    और जब फुर्सत मिली तो बच्चे खुद ही दौलत कमाने निकल गए।
  • रिश्ते काँच की तरह होते हैं;<br/>
टूटे जाए तो चुभते हैं;<br/>
इन्हे संभालकर हथेली पर सजाना;<br/>
क्योंकि इन्हें टूटने मे एक पल;<br/>
और बनाने मे बरसो लग जाते हैं।Upload to Facebook
    रिश्ते काँच की तरह होते हैं;
    टूटे जाए तो चुभते हैं;
    इन्हे संभालकर हथेली पर सजाना;
    क्योंकि इन्हें टूटने मे एक पल;
    और बनाने मे बरसो लग जाते हैं।
  • स्वार्थ से रिश्ते बनाने की कितनी भी कोशिश करो यह बनेगा नहीं,<br/>
और प्यार से बने रिश्ते को तोड़ने की कितनी भी कोशिश करो यह टूटेगा नहीं।Upload to Facebook
    स्वार्थ से रिश्ते बनाने की कितनी भी कोशिश करो यह बनेगा नहीं,
    और प्यार से बने रिश्ते को तोड़ने की कितनी भी कोशिश करो यह टूटेगा नहीं।
  • जीवन में ज़ख़्म बड़े नहीं होते, उनको भरने वाले बड़े होते हैं;<br/>
रिश्ते बड़े नहीं होते लेकिन उनको निभाने वाले लोग बड़े होते हैं।Upload to Facebook
    जीवन में ज़ख़्म बड़े नहीं होते, उनको भरने वाले बड़े होते हैं;
    रिश्ते बड़े नहीं होते लेकिन उनको निभाने वाले लोग बड़े होते हैं।
  • हर रिश्ते में मिलावट देखी;<br/>
कच्चे रंगों की सजावट देखी;<br/>
लेकिन सालों-साल देखा है माँ को;<br/>
उसके चेहरे पे ना कभी थकावट देखी;<br/>
ना ममता में कभी कोई मिलावट देखी।Upload to Facebook
    हर रिश्ते में मिलावट देखी;
    कच्चे रंगों की सजावट देखी;
    लेकिन सालों-साल देखा है माँ को;
    उसके चेहरे पे ना कभी थकावट देखी;
    ना ममता में कभी कोई मिलावट देखी।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT