• फूल इसलिए अच्छे, कि खुश्बू का पैगाम देते हैं;
    कांटे इसलिए अच्छे, कि दामन थाम लेते हैं;
    दोस्त इसलिए अच्छे, कि वो मुझ पर जान देते हैं;
    और दुश्मनों को, कैसे ख़राब कह दूँ वो ही तो हैं;
    जो हर महफ़िल में मेरा नाम लेते हैं।
  • रिश्ते खून के नहीं होते, रिश्ते एहसास के होते हैं;
    अगर एहसास हो तो अजनबी भी अपने होते हैं;
    और अगर एहसास ना हो तो अपने भी अजनबी हो जाते हैं।
  • दिल से बने रिश्तों का नाम नहीं होता;<br/>
इनका कभी भी निरर्थक अंजाम नहीं होता;<br/>
अगर निभाने का हो जज्बा दोनों तरफ;<br/>
तो ये पाक रिश्ता कभी बदनाम नहीं होता।
    दिल से बने रिश्तों का नाम नहीं होता;
    इनका कभी भी निरर्थक अंजाम नहीं होता;
    अगर निभाने का हो जज्बा दोनों तरफ;
    तो ये पाक रिश्ता कभी बदनाम नहीं होता।
  • अपने रिश्तों को बारिश की तरह न बनाये, जो आये और चली जाये;<br/>
बल्कि रिश्ते ऐसे बनाये जो हवा की तरह हमेशा आपके अंग संग रहें।
    अपने रिश्तों को बारिश की तरह न बनाये, जो आये और चली जाये;
    बल्कि रिश्ते ऐसे बनाये जो हवा की तरह हमेशा आपके अंग संग रहें।
  • लगे न नज़र इस रिश्ते को ज़माने की;<br/>
पड़े न ज़रुरत कभी एक-दूजे को मनाने की;<br/>
छोड़ना न कभी आप हमारा ये साथ;<br/>
तमन्ना हमारी भी है इसे मौत तक निभाने की।
    लगे न नज़र इस रिश्ते को ज़माने की;
    पड़े न ज़रुरत कभी एक-दूजे को मनाने की;
    छोड़ना न कभी आप हमारा ये साथ;
    तमन्ना हमारी भी है इसे मौत तक निभाने की।
  • ज़िंदगी नहीं हमें ये रिश्ता है प्यारा;<br/>
रिश्तों के प्यार से ही खिलता है दिल हमारा;<br/>
आँखों में हमारी आँसू है तो क्या गम है;<br/>
इस बात की ख़ुशी है कि मुस्कुरा रहा है कोई जान से प्यारा।
    ज़िंदगी नहीं हमें ये रिश्ता है प्यारा;
    रिश्तों के प्यार से ही खिलता है दिल हमारा;
    आँखों में हमारी आँसू है तो क्या गम है;
    इस बात की ख़ुशी है कि मुस्कुरा रहा है कोई जान से प्यारा।
  • रिश्तों में सदा प्यार की मिठास रहे;<br/>
कभी न मिटने वाला एक एहसास रहे;<br/>
कहने को तो छोटी सी है यह जिंदगी;<br/>
मगर दुआ है कि सदा आपका साथ रहे।
    रिश्तों में सदा प्यार की मिठास रहे;
    कभी न मिटने वाला एक एहसास रहे;
    कहने को तो छोटी सी है यह जिंदगी;
    मगर दुआ है कि सदा आपका साथ रहे।
  • दिमाग पर ज़ोर लगाकर गिनते हो गलतियां मेरी;<br/>
कभी दिल पर हाथ रख के पूछना कसूर किसका है।
    दिमाग पर ज़ोर लगाकर गिनते हो गलतियां मेरी;
    कभी दिल पर हाथ रख के पूछना कसूर किसका है।
  • यादें अक्सर होती हैं सताने के लिए;<br/>
कोई रूठ जाता है फिर मान जाने के लिए;<br/>
रिश्ते निभाना कोई मुश्किल तो नहीं;<br/>
बस दिलों में प्यार चाहिए उसे निभाने के लिए।
    यादें अक्सर होती हैं सताने के लिए;
    कोई रूठ जाता है फिर मान जाने के लिए;
    रिश्ते निभाना कोई मुश्किल तो नहीं;
    बस दिलों में प्यार चाहिए उसे निभाने के लिए।
  • खूबसूरत सा एक पल किस्सा बन जाता है;<br/>
जाने कब कौन ज़िंदगी का हिस्सा बन जाता है;<br/>
कुछ लोग ज़िंदगी में मिलते हैं ऐसे;<br/>
जिनसे कभी ना टूटने वाला रिश्ता बन जाता है।
    खूबसूरत सा एक पल किस्सा बन जाता है;
    जाने कब कौन ज़िंदगी का हिस्सा बन जाता है;
    कुछ लोग ज़िंदगी में मिलते हैं ऐसे;
    जिनसे कभी ना टूटने वाला रिश्ता बन जाता है।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT