• संता: मैं और मेरी पत्नी फिल्म देखने गये! हम फिल्म का एक भाग ही देख पाये!
    बंता: क्यों? आपने दूसरा भाग क्यों नहीं देखा!
    संता: पहले भाग के बाद स्क्रीन पर लिखा आ गया दूसरा भाग - दो दिन बाद! हम क्या दो दिन सिनेमा हाल में बैठे रहते?
  • बंता: हमारे बड़े-बूढ़े हमेशा हमें यह क्यों कहते हैं कि पराई औरतों को हमेशा अपनी माँ के समान समझो!
    संता: वो इस तरह हमारा उल्लू बनाके अपना उल्लू सीधा करते हैं!
  • संता: आज सुबह मैं डेंटिस्ट के पास गया था!
    बंता: क्या तुम्हारा दांत अभी भी दर्द करता है!
    संता: मुझे नहीं पता क्योंकि वो दांत तो डाक्टर ने रख लिया!
  • संता: मेरा बेटा बहुत आज्ञाकारी है, मैं जो कहता हूँ वही करता है!
    बंता: अच्छा जी आजकल के ज़माने मैं ऐसा आज्ञाकारी बेटा - कमाल है!
    संता: बिल्कुल! मैंने उसे कह रखा है कि जो जी मे आये करो!
  • संता: वकील साहब आप वसीयत लिखिये कि मेरी मृत्यु के बाद मेरे पास जो कुछ भी है वो यतीमखाने को दे दिया जाये!
    वकील: आपके पास है क्या क्या?
    संता: दो बेटे, एक बेटी!
  • संता: आखिर मेरी प्रेमिका ने हाँ कर ही दी!
    बंता: अच्छा मुबारक हो! शादी कब है?
    संता: शादी के लिए थोड़ा हाँ की है! वैसे हाँ की है!
  • संता: सुना है तुम्हारी शादी हाल ही में हुई थी!
    बंता: जी नहीं मेरी शादी मण्डप में हुई थी!
  • संता: मैं असंभव को संभव बना सकता हूँ!
    बंता: अच्छा वो कैसे?
    संता: असंभव का अ हटा के!
  • बंता: अगर आपके घर में इन्कम टैक्स का छापा पड़ जाये तो?
    संता: तो मेरे घर से उन्हें कुछ नहीं मिलेगा! मेरी पत्नी पैसा कहाँ छुपाके रखती है यह तो मुझे भी नहीं पता!
  • बंता: क्या आपको किसी औरत को देखकर यह इच्छा नहीं होती कि काश आप कुंवारे होते! आपने शादी न की होती!
    संता: होती है!
    बंता: किसको देखकर?
    संता: अपनी पत्नी को देखकर!
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT