• कभी सुबह सुहानी होगी;<br />
जब रात आपकी दीवानी होगी;<br />
खूब मिलेंगे दुनिया की राहों में;<br />
जो हमसे आपकी कहानी होगी।<br />
सुप्रभात!
    कभी सुबह सुहानी होगी;
    जब रात आपकी दीवानी होगी;
    खूब मिलेंगे दुनिया की राहों में;
    जो हमसे आपकी कहानी होगी।
    सुप्रभात!
  • उठकर देखिये सुबह का 'नजारा;'<br />
हवा भी है ठंडी और मौसम भी है प्यारा;<br />
सो गया चाँद और छुप गया हर एक सितारा;<br />
`क़बूल हो आपको` सलाम-ए-सुबह हमारा।<br />
सुप्रभात!
    उठकर देखिये सुबह का 'नजारा;'
    हवा भी है ठंडी और मौसम भी है प्यारा;
    सो गया चाँद और छुप गया हर एक सितारा;
    "क़बूल हो आपको" सलाम-ए-सुबह हमारा।
    सुप्रभात!
  • जरा देखना उठ गए साहब नींद से या नहीं ए दिल;
    सुना है बहुत सोते हैं ये हुस्न वाले।
    सुप्रभात!
  • ए हवा तू उधर तो जाती होगी;<br / >
उनको हमारा हाल तो बताती होगी;<br / >
ज़रा छू कर तो देख उनके दिल को;<br / >
क्या याद उनको भी हमारी आती होगी।<br / >
सुप्रभात!
    ए हवा तू उधर तो जाती होगी;
    उनको हमारा हाल तो बताती होगी;
    ज़रा छू कर तो देख उनके दिल को;
    क्या याद उनको भी हमारी आती होगी।
    सुप्रभात!
  • फिर उम्मीदों भरी सुबह आई है;<br/>
सूरज को साथ लाई है;<br/>
हमारी दोस्ती का ये असर तो देखो;<br/>
कि हवायें भी आपको `गुड मॉर्निंग` कहने आई हैं।<br/>
सुप्रभात!
    फिर उम्मीदों भरी सुबह आई है;
    सूरज को साथ लाई है;
    हमारी दोस्ती का ये असर तो देखो;
    कि हवायें भी आपको "गुड मॉर्निंग" कहने आई हैं।
    सुप्रभात!
  • सोचा किसी अपने से बात करें;<br/>
अपने किसी ख़ास को याद करें;<br/>
किया जो फैसला सुबह की शुभकामनायें देने का;<br/>
दिल ने कहा क्यों ना आप से शुरुआत करें।<br/>
सुप्रभात!
    सोचा किसी अपने से बात करें;
    अपने किसी ख़ास को याद करें;
    किया जो फैसला सुबह की शुभकामनायें देने का;
    दिल ने कहा क्यों ना आप से शुरुआत करें।
    सुप्रभात!
  • जाने कब सुबह-सुबह वो रिश्ता बन गया;<br/>
अनजाना जाने कब अपना बन गया;<br/>
हमें एहसास भी न हुआ और;<br/>
कोई हमारी सुबह की जरुरत बन गया।<br/>
सुप्रभात!
    जाने कब सुबह-सुबह वो रिश्ता बन गया;
    अनजाना जाने कब अपना बन गया;
    हमें एहसास भी न हुआ और;
    कोई हमारी सुबह की जरुरत बन गया।
    सुप्रभात!
  • तेरी हर सुबह मुस्कुराती रहे;<br/>
तेरी हर शाम गुनगुनाती रहे;<br/>
तू जिसे भी मिले इस तरह से मिले;<br/>
कि हर मिलने वाले को तेरी याद आती रहे।<br/>
सुप्रभात!
    तेरी हर सुबह मुस्कुराती रहे;
    तेरी हर शाम गुनगुनाती रहे;
    तू जिसे भी मिले इस तरह से मिले;
    कि हर मिलने वाले को तेरी याद आती रहे।
    सुप्रभात!
  • चांदनी रात अलविदा कह रही है;<br/>
एक ठंडी सी हवा दस्तक दे रही है;<br/>
उठकर देखो नजारों को एक प्यारी सी सुबह आपको;<br/>
`गुड मॉर्निंग कह रही है!`<br/>
सुप्रभात!
    चांदनी रात अलविदा कह रही है;
    एक ठंडी सी हवा दस्तक दे रही है;
    उठकर देखो नजारों को एक प्यारी सी सुबह आपको;
    "गुड मॉर्निंग कह रही है!"
    सुप्रभात!
  • रात के बाद सुबह को आना ही था;<br/>
गम के बाद ख़ुशी को आना ही था;<br/>
क्या हुआ अगर हम देर तक सोये रहे;<br/>
पर हमारा मोर्निंग मैसेज तो आना ही था।<br/> 
सुप्रभात!
    रात के बाद सुबह को आना ही था;
    गम के बाद ख़ुशी को आना ही था;
    क्या हुआ अगर हम देर तक सोये रहे;
    पर हमारा मोर्निंग मैसेज तो आना ही था।
    सुप्रभात!