• होती है मुझ पर रोज तेरी रहमतों के रंगों की बारिश,<br/>
मैं कैसे कह दूँ मेरे मालिक, होली साल में एक बार आती है!<br/>
सभी को होली की शुभ कामनायें!
    होती है मुझ पर रोज तेरी रहमतों के रंगों की बारिश,
    मैं कैसे कह दूँ मेरे मालिक, होली साल में एक बार आती है!
    सभी को होली की शुभ कामनायें!
  • राधा का रंग और कन्हैया की पिचकारी;<br/>
प्यार के रंग से रंग दो दुनिया सारी;<br/>
ये रंग न जाने कोई जात न कोई बोली;<br/>
इसलिए कहते हैं मुबारक हो सबको होली।<br/>
होली की शुभ कामनायें!
    राधा का रंग और कन्हैया की पिचकारी;
    प्यार के रंग से रंग दो दुनिया सारी;
    ये रंग न जाने कोई जात न कोई बोली;
    इसलिए कहते हैं मुबारक हो सबको होली।
    होली की शुभ कामनायें!
  • होली आने वाली है, रंगों से ना डरें;<br/>
रंग बदलने वालों से डरें!
    होली आने वाली है, रंगों से ना डरें;
    रंग बदलने वालों से डरें!
  • होली आने वाली है और इस बार किसी ने पानी की बचत पर ज्ञान दिया तो ठीक नहीं होगा।<br/>
मैं वही पानी इस्तेमाल करूँगा जो मैंने ठंड में नहीं नहाके बचाया था।
    होली आने वाली है और इस बार किसी ने पानी की बचत पर ज्ञान दिया तो ठीक नहीं होगा।
    मैं वही पानी इस्तेमाल करूँगा जो मैंने ठंड में नहीं नहाके बचाया था।
  • अच्छा हुआ जो गुजर गया फरवरी,<br/>
ये अंग्रेजी मोहब्बत का महीना था साहब;<br/>
राधा कृष्ण का प्रेम तो अब परवान चढ़ेगा,<br/>
रसिया पर फागुन का रंग जब चढ़ेगा।<br/>
होली मुबारक!
    अच्छा हुआ जो गुजर गया फरवरी,
    ये अंग्रेजी मोहब्बत का महीना था साहब;
    राधा कृष्ण का प्रेम तो अब परवान चढ़ेगा,
    रसिया पर फागुन का रंग जब चढ़ेगा।
    होली मुबारक!
  • ये रंगो का त्यौहार आया है,<br/>
साथ अपने खुशियाँ लाया है,<br/>
हमसे पहले कोई रंग न दे आपको,<br/>
इसलिए हमने शुभकामनाओं का रंग, सबसे पहले भिजवाया है।<br/>
होली मुबारक!
    ये रंगो का त्यौहार आया है,
    साथ अपने खुशियाँ लाया है,
    हमसे पहले कोई रंग न दे आपको,
    इसलिए हमने शुभकामनाओं का रंग, सबसे पहले भिजवाया है।
    होली मुबारक!
  • राधा का रंग और कान्हा की पिचकारी,<br/>
प्यार के रंग से रंग दो दुनिया सारी,<br/>
ये रंग न जाने कोई जात न कोई बोली,<br/>
मुबारक हो आपको रंग भरी होली।
    राधा का रंग और कान्हा की पिचकारी,
    प्यार के रंग से रंग दो दुनिया सारी,
    ये रंग न जाने कोई जात न कोई बोली,
    मुबारक हो आपको रंग भरी होली।
  • निकलो गलियों में बना कर टोली,<br/>
भिगा दो आज हर एक की झोली,<br/>
कोई मुस्कुरा दे तो उसे गले लगा लो,<br/>
वरना निकल लो, लगा के रंग कह के हैप्पी होली।<br/>
हैप्पी होली!
    निकलो गलियों में बना कर टोली,
    भिगा दो आज हर एक की झोली,
    कोई मुस्कुरा दे तो उसे गले लगा लो,
    वरना निकल लो, लगा के रंग कह के हैप्पी होली।
    हैप्पी होली!
  • पिचकारी की धार, गुलाल की बौछार,<br/>
अपनों का प्यार, यही है यारों होली का त्यौहार।<br/>
होली की शुभ कामनायें!
    पिचकारी की धार, गुलाल की बौछार,
    अपनों का प्यार, यही है यारों होली का त्यौहार।
    होली की शुभ कामनायें!
  • कौन कहता है कि हम होली के दिन फालतू का पानी खर्च करते हैं<br/>
हम तो वो पानी खर्च करते हैं जो हमने पूरी सर्दियों में ना नहाके बचाया था।
    कौन कहता है कि हम होली के दिन फालतू का पानी खर्च करते हैं
    हम तो वो पानी खर्च करते हैं जो हमने पूरी सर्दियों में ना नहाके बचाया था।