• बेटा: पापा, आम चुनाव किसे कहते हैं?<br/>
पापा: ढेर सारे सड़े हुये आमों में से 'थोड़ा कम सड़ा हुआ कोई एक आम' चुन पाने की जटिल प्रक्रिया को ही 'आम चुनाव' कहते हैं!
    बेटा: पापा, आम चुनाव किसे कहते हैं?
    पापा: ढेर सारे सड़े हुये आमों में से 'थोड़ा कम सड़ा हुआ कोई एक आम' चुन पाने की जटिल प्रक्रिया को ही 'आम चुनाव' कहते हैं!
  • सब्ज़ी कैसी लगी?<br/>
`बहुत बढ़िया, एक नंबर है`<br/>
बस यही सुखी वैवाहिक जीवन का पासवर्ड है!
    सब्ज़ी कैसी लगी?
    "बहुत बढ़िया, एक नंबर है"
    बस यही सुखी वैवाहिक जीवन का पासवर्ड है!
  • वैसे ही कुछ कम नहीं थे बोझ दिल पर,<br/>
और ये दर्जी भी जेब बायीं ओर सिल देता है!
    वैसे ही कुछ कम नहीं थे बोझ दिल पर,
    और ये दर्जी भी जेब बायीं ओर सिल देता है!
  • बचपन में बस एक ही चीज से बहुत डर लगता था...<br/>
<br/>
<br/>
<br/>
<br/>
<br/>
<br/>
<br/>
<br/>
जब कोई पूछता था, `और बेटा, पहाड़ा कितने तक का याद है?`
    बचपन में बस एक ही चीज से बहुत डर लगता था...








    जब कोई पूछता था, "और बेटा, पहाड़ा कितने तक का याद है?"
  • अब ये अफवाह कौन फैला रहा है कि लड़कियाँ अपने पैरों में काला धागा इसलिए पहनती हैं ताकि...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
अंदर की चुड़ैल बाहर ना निकल सके!
    अब ये अफवाह कौन फैला रहा है कि लड़कियाँ अपने पैरों में काला धागा इसलिए पहनती हैं ताकि...
    .
    .
    .
    .
    .
    अंदर की चुड़ैल बाहर ना निकल सके!
  • कल लोग मुझे दशहरे की इतनी बधाइयाँ दे रहे थे!<br/>
जैसे रावण को मैने ही मारा हो।
    कल लोग मुझे दशहरे की इतनी बधाइयाँ दे रहे थे!
    जैसे रावण को मैने ही मारा हो।
  • रावण ने लाख गलतियाँ की लेकिन...<br/>
एक भी 'नेहरू' जी के नाम नहीं लगाई!
    रावण ने लाख गलतियाँ की लेकिन...
    एक भी 'नेहरू' जी के नाम नहीं लगाई!
  • जन्नत लगती है दुनिया माँ, जब तेरी गोद में सोता हूँ;<br/>
प्यार तुझसे इतना है माँ, नाप नहीं मैं सकता हूँ;<br/>
तू ही मेरा सब कुछ है माँ, जन्मदिन पर हर ख़ुशी मिले आपको बस यही दुआ करता हूँ!<br/>
जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनायें!
    जन्नत लगती है दुनिया माँ, जब तेरी गोद में सोता हूँ;
    प्यार तुझसे इतना है माँ, नाप नहीं मैं सकता हूँ;
    तू ही मेरा सब कुछ है माँ, जन्मदिन पर हर ख़ुशी मिले आपको बस यही दुआ करता हूँ!
    जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनायें!
  • फिर से प्रयास करने से नहीं घबराना, क्योंकि इस बार शुरुआत शून्य से नहीं अनुभव से होगी!
    फिर से प्रयास करने से नहीं घबराना, क्योंकि इस बार शुरुआत शून्य से नहीं अनुभव से होगी!
  • जीवन में समस्यायें तो हर दिन खड़ी होती हैं लेकिन जीत उन्ही के होती है जिनकी सोच बड़ी होती है!<br/>
सुप्रभात!
    जीवन में समस्यायें तो हर दिन खड़ी होती हैं लेकिन जीत उन्ही के होती है जिनकी सोच बड़ी होती है!
    सुप्रभात!