• रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी;<br/>
दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी;<br/>
जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा;<br/>
उसे ज़िंदगी से कोई और शिकायत क्या होगी।
    रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी;
    दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी;
    जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा;
    उसे ज़िंदगी से कोई और शिकायत क्या होगी।
  • जो आसानी से मिले वो है धोखा,<br/>
जो मुश्किल से मिले वो है इज़्ज़त;<br/>
जो दिल से मिले वो है प्यार,<br/>
और जो नसीब से मिले वो हैं दोस्त!
    जो आसानी से मिले वो है धोखा,
    जो मुश्किल से मिले वो है इज़्ज़त;
    जो दिल से मिले वो है प्यार,
    और जो नसीब से मिले वो हैं दोस्त!
  • रिश्ते `स्टोर रूम` में रखे समान की तरह हो गए हैं!<br/>
जिन्हें आजकल ज़रूरत पड़ने पर ही इस्तेमाल किया जाता है!
    रिश्ते "स्टोर रूम" में रखे समान की तरह हो गए हैं!
    जिन्हें आजकल ज़रूरत पड़ने पर ही इस्तेमाल किया जाता है!
  • नाराज़गी बहुत नाज़ुक होती है;<br/>
प्यार का स्पर्श मिलते ही ढ़ेर हो जाती है!
    नाराज़गी बहुत नाज़ुक होती है;
    प्यार का स्पर्श मिलते ही ढ़ेर हो जाती है!
  • दोस्ती कभी बड़ी नहीं होती, निभाने वाले यार हमेशा बड़े होते हैं!
    दोस्ती कभी बड़ी नहीं होती, निभाने वाले यार हमेशा बड़े होते हैं!
  • रिश्ते कभी जिंदगी के साथ-साथ नहीं चलते!<br/>
रिश्ते एक बार बनते हैं और फिर जिंदगी रिश्तों के साथ-साथ चलती है!
    रिश्ते कभी जिंदगी के साथ-साथ नहीं चलते!
    रिश्ते एक बार बनते हैं और फिर जिंदगी रिश्तों के साथ-साथ चलती है!
  • सबसे ज़्यादा मिलनसार लोग फेसबुक पर ही मिलते हैं!<br/>
वरना कौन आज के टाइम में किसी को `Beautiful` `Cute` और `Awesome` बोलता है!
    सबसे ज़्यादा मिलनसार लोग फेसबुक पर ही मिलते हैं!
    वरना कौन आज के टाइम में किसी को "Beautiful" "Cute" और "Awesome" बोलता है!
  • अगर आपके पास, आपको गाली देने वाले 2-4 दोस्त हैं तो<br/>
यकीन मानिये आप कभी आत्महत्या नहीं कर सकते!
    अगर आपके पास, आपको गाली देने वाले 2-4 दोस्त हैं तो
    यकीन मानिये आप कभी आत्महत्या नहीं कर सकते!
  • दोस्तों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,<br/>
लगता है जैसे खुल के जिए एक ज़माना हो गया;<br/>
काश कहीं मिल जाये वो काफिला दोस्तों का,<br/>
ज़िंदगी जिए एक ज़माना हो गया!
    दोस्तों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
    लगता है जैसे खुल के जिए एक ज़माना हो गया;
    काश कहीं मिल जाये वो काफिला दोस्तों का,
    ज़िंदगी जिए एक ज़माना हो गया!
  • अपनों का साथ बहुत आवश्यक है!<br/>
सुख है तो बढ़ जाता है और दुःख हो तो बँट जाता है!
    अपनों का साथ बहुत आवश्यक है!
    सुख है तो बढ़ जाता है और दुःख हो तो बँट जाता है!