• जो दोस्त 'कमीने' नहीं होते;<br/>
वो कमीने 'दोस्त' ही नहीं होते।
    जो दोस्त 'कमीने' नहीं होते;
    वो कमीने 'दोस्त' ही नहीं होते।
  • इश्क़ में नस काट लेना भी आसान था पर दोस्त इतने कमीने थे कि...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    सालों ने दारु पिला के उसी की बारात में नचवा दिया।
  • मैंने रिश्तों को संभाला है मोतियों की तरह,
    कोई गिर भी जाये तो झुक कर उठा लेता हूँ।
  • दोस्त फेल हो जाए तो दुःख होता है।<br/>
लेकिन अगर दोस्त First आ जाये तो ज़्यादा दुःख होता है।
    दोस्त फेल हो जाए तो दुःख होता है।
    लेकिन अगर दोस्त First आ जाये तो ज़्यादा दुःख होता है।
  • जब को कोई दोस्त बीमार होता है तो
    रिश्तेदार: कुछ नहीं होगा तुझे, समय पर दवाई लेते रहना, भगवान सब ठीक करेगा
    दोस्त: मर जा साले तू, मरने से पहले अपना Xbox मुझे दे दे यार, पता है मेरे दादा जी भी ऐसे ही मरे थे।
  • महक दोस्ती की इश्क़ से कम नहीं होती,<br/>
इश्क़ से ज़िन्दगी शुरू या खत्म नहीं होती,<br/>
अगर साथ हो ज़िन्दगी में अच्छे दोस्तों का,<br/>
तो यह ज़िन्दगी भी जन्नत से कम नहीं होती।
    महक दोस्ती की इश्क़ से कम नहीं होती,
    इश्क़ से ज़िन्दगी शुरू या खत्म नहीं होती,
    अगर साथ हो ज़िन्दगी में अच्छे दोस्तों का,
    तो यह ज़िन्दगी भी जन्नत से कम नहीं होती।
  • वो जो दिल के करीब होते हैं,<br/>
वो नमूने बड़े अजीब होते हैं।
    वो जो दिल के करीब होते हैं,
    वो नमूने बड़े अजीब होते हैं।
  • उस चाँद को बहुत गुरूर है कि उसके पास नूर है;<br/>
मगर वो क्या जाने कि मेरा तो पूरा ग्रुप कोहिनूर है।
    उस चाँद को बहुत गुरूर है कि उसके पास नूर है;
    मगर वो क्या जाने कि मेरा तो पूरा ग्रुप कोहिनूर है।
  • सब लोग मंज़िल को मुश्किल मानते हैं;<br/>
हम तो मुश्किल को मंज़िल मानते हैं।<br/>
बहुत बड़ा फर्क है सब में और हम में;<br/>
सब ज़िंदगी को दोस्त और हम दोस्त को ज़िंदगी मानते हैं।
    सब लोग मंज़िल को मुश्किल मानते हैं;
    हम तो मुश्किल को मंज़िल मानते हैं।
    बहुत बड़ा फर्क है सब में और हम में;
    सब ज़िंदगी को दोस्त और हम दोस्त को ज़िंदगी मानते हैं।
  • खूबसूरत सा एक पल किस्सा बन जाता है,<br/>
जाने कब कौन ज़िंदगी का हिस्सा बन जाता है;<br/>
कुछ  लोग ज़िंदगी में मिलते हैं ऐसे,<br/>
जिनसे कभी ना टूटने वाला रिश्ता बन जाता है।
    खूबसूरत सा एक पल किस्सा बन जाता है,
    जाने कब कौन ज़िंदगी का हिस्सा बन जाता है;
    कुछ लोग ज़िंदगी में मिलते हैं ऐसे,
    जिनसे कभी ना टूटने वाला रिश्ता बन जाता है।