• होती नहीं है मोहब्बत सूरत से;
    मोहब्बत तो दिल से होती है;
    सूरत उनकी खुद-ब-खुद लगती है प्यारी;
    कदर जिनकी दिल में होती है।
  • सबसे अलग सबसे न्यारे हो आप;
    तारीफ कभी पूरी ना हो इतने प्यारे हो आप;
    आज पता चला कि ज़माना क्यों जलता है हमसे;
    क्योंकि दोस्त तो आखिर हमारे हो आप।
  • पानी का एक कतरा आँख से गिरा अभी;<br/>
क्या तुमने मुझको याद किया अभी;<br/>
तुझसे मिले ज़माना हुआ मगर;<br/>
यूँ लगा कोई मुझसे मिल कर गया अभी।
    पानी का एक कतरा आँख से गिरा अभी;
    क्या तुमने मुझको याद किया अभी;
    तुझसे मिले ज़माना हुआ मगर;
    यूँ लगा कोई मुझसे मिल कर गया अभी।
  • टूटा हुआ फूल खुश्बू देता है;
    बीता हुआ पल यादें देता है;
    हर शख्स का अपना अंदाज़ होता है;
    कोई प्यार में ज़िंदगी, तो कोई ज़िंदगी में प्यार दे जाता है।
  • चाहत है बस तुम्हें पाने की;
    कोई और तम्मना नहीं इस दीवाने की;
    आपसे नहीं, खुदा से शिकवा है मुझे;
    ज़रूरत क्या थी तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की।
  • राहों में भी राज़ होता है;
    फूलों में भी मिज़ाज़ होता है;
    गलतियां हमारी माफ़ करना ऐ-दोस्त;
    क्योंकि चमकते चाँद में भी दाग होता है।
  • वो देता है दर्द बस हमी को;<br/>
क्या समझेगा वो इन आँखों की नमी को;<br/>
लाखों दीवाने हों जिस के;<br/>
वो क्या महसूस करेगा एक हमारी कमी को।
    वो देता है दर्द बस हमी को;
    क्या समझेगा वो इन आँखों की नमी को;
    लाखों दीवाने हों जिस के;
    वो क्या महसूस करेगा एक हमारी कमी को।
  • ज़ख्म मोहब्बत में हमने खाए हैं;
    चिराग उनकी राहों में जलाए हैं;
    हर होंठ पर हैं वो गीत मेरे;
    जो उनकी याद में हमने गाए हैं।
  • रिश्ते चाहे कितने भी बुरे हों, लेकिन कभी भी उन्हें मत तोड़ना;
    क्योंकि पानी चाहे कितना भी गंदा हो, प्यास नहीं तो आग तो बुझा ही देता है।
  • बूँदें बारिश की यूँ ज़मीन पर आने लगी;<br/>
सोंदी सी महक माटी की जगाने लगी;<br/>
हवाओं में भी जैसे मस्ती छाने लगी;<br/>
वैसे ही हमें भी आपकी याद आने लगी।
    बूँदें बारिश की यूँ ज़मीन पर आने लगी;
    सोंदी सी महक माटी की जगाने लगी;
    हवाओं में भी जैसे मस्ती छाने लगी;
    वैसे ही हमें भी आपकी याद आने लगी।