• उस वक्त दिल कितना मजबूर होता है;
    जब कोई किसी की यादों में चूर-चूर होता है;
    रिश्ता क्या था, पता चलता है तब;
    जब कोई निगाहों से बहुत दूर होता है।
  • ग़म ने हंसने ना दिया, ज़माने ने रोने ना दिया;
    इस उलझन ने जीने ना दिया;
    थक के जब सितारों से पनाह ली;
    नींद आई तो आपकी याद ने सोने ना दिया।
  • जब से देखा है तेरी आँखों में झाँक कर;
    कोई भी आईना अच्छा नहीं लगता;
    तेरी मोहब्बत में ऐसे हुए हैं दीवाने;
    तुम्हें कोई और देखे तो अच्छा नहीं लगता।
  • इश्क़ सभी को जीना सिखा देता है;
    वफ़ा के नाम पर मरना सिखा देता है;
    इश्क़ नहीं किया तो करके देखो;
    ज़ालिम हर दर्द सहना सिखा देता है।
  • भगवान आपके सारे ग़म रेत पर लिख दे;
    तांकि वो हवा से ही मिल जाए;
    और खुशियां पत्थर पर लिख दे;
    तांकि हवा तो क्या, उसे बारिश भी ना मिटा सके।
  • किताबों में कहते हैं फूल तोडना मना है;<br/>
बागों में कहते हैं फूल तोड़ना मना है;<br/>
फूलों से कीमती चीज़ है दिल;<br/>
कोई नहीं कहता दिल तोड़ना मना है।Upload to Facebook
    किताबों में कहते हैं फूल तोडना मना है;
    बागों में कहते हैं फूल तोड़ना मना है;
    फूलों से कीमती चीज़ है दिल;
    कोई नहीं कहता दिल तोड़ना मना है।
  • काश यह सपना भी पूरा हो जाए;<br/>
हम भी किसी के सपनों में खो जाएं;<br/>
हो हमारा भी जिक्र उनके लबों पर;<br/>
हम भी उनके दिल में बस जाएं।Upload to Facebook
    काश यह सपना भी पूरा हो जाए;
    हम भी किसी के सपनों में खो जाएं;
    हो हमारा भी जिक्र उनके लबों पर;
    हम भी उनके दिल में बस जाएं।
  • आपकी जुदाई भी हमें प्यार करती है;<br/>
आपकी याद बहुत बेकरार करती है;<br/>
जाते जाते कहीं भी मुलाकात हो जाये आप से;<br/>
तलाश आपको ये नज़र बार बार करती है।Upload to Facebook
    आपकी जुदाई भी हमें प्यार करती है;
    आपकी याद बहुत बेकरार करती है;
    जाते जाते कहीं भी मुलाकात हो जाये आप से;
    तलाश आपको ये नज़र बार बार करती है।
  • मैं उससे दूर चला तो आया हूँ;
    मगर अभी तक उसे ना भूल पाया हूँ;
    जिक्र किस से करूँ तेरी वफाओं का मैं;
    इस अजनबी शहर में भटकता साया हूँ।
  • चाहो तो दिल से हम को मिटा देना;
    चाहो तो हम को भुला देना;
    पर यह वादा करो कि आए जो कभी याद हमारी;
    रोना मत सिर्फ मुस्कुरा देना।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT