• माना हुई खता हमसे;
    पर गलती तो हम सब करते हैं;
    इस बार आप भी माफ़ कर दो;
    वरना हर बार तो माफ़ी आप ही मांगते हैं।
  • बहुत चाहा पर उन्हें भुला ना सके;<br/>
ख्यालों में किसी और को ला ना सके;<br/>
किसी को देख कर आंसू तो पोंछ लिए;<br/>
पर किसी को देख कर हम मुस्कुरा ना सके।
    बहुत चाहा पर उन्हें भुला ना सके;
    ख्यालों में किसी और को ला ना सके;
    किसी को देख कर आंसू तो पोंछ लिए;
    पर किसी को देख कर हम मुस्कुरा ना सके।
  • तुम हँसते हो मुझे हसाने के लिए;
    तुम रोते हो मुझे रुलाने के लिए;
    तुम एक बार रूठ कर तो देखो;
    मर जाएंगे तुम्हें मनाने के लिए।
  • धोखा दिया था जब तुम ने मुझे;
    अपने दिल से मैं नाराज़ था;
    फिर सोचा दिल से तुझे मैं निकाल दूँ;
    मगर वह कम्बख्त दिल भी तुम्हारे पास था।
  • पाने से खोने का मज़ा कुछ और है;
    बंद आँखों से देखने का मज़ा कुछ और है;
    आंसू बने लफ्ज़ और लफ्ज़ बने ग़ज़ल;
    तेरी यादों के साथ जीने का मज़ा कुछ और है।
  • कुछ दिन से मेरे सामने आते नहीं हो तुम;<br/>
आँखों में नूर बन के समाते नहीं हो तुम;<br/>
सो रहा है गहरी नींद में एक उम्र से;<br/>
इस बे-खबर को आ कर जगाते नहीं हो तुम।
    कुछ दिन से मेरे सामने आते नहीं हो तुम;
    आँखों में नूर बन के समाते नहीं हो तुम;
    सो रहा है गहरी नींद में एक उम्र से;
    इस बे-खबर को आ कर जगाते नहीं हो तुम।
  • हर बात समझाने के लिए नहीं होती;
    ज़िंदगी हमेशा पाने के लिए नहीं होती;
    याद तो आती है आपकी हर पल;
    पर हर याद जताने के लिए नहीं होती।
  • हम तो तुझे चाहते हैं हर पल;<br/>
तू भी अपने होने का हक़ जता दे;<br/>
कुछ और नहीं तो कर इतना कर्म;<br/>
जहाँ तू याद ना आए वो जगह बता दे।
    हम तो तुझे चाहते हैं हर पल;
    तू भी अपने होने का हक़ जता दे;
    कुछ और नहीं तो कर इतना कर्म;
    जहाँ तू याद ना आए वो जगह बता दे।
  • वो जो हमारे लिए ख़ास होते हैं;
    जिनके लिए दिल में एहसास होते हैं;
    चाहे वक़्त कितना भी दूर कर दे उन्हें;
    पर दूर रहकर भी वो दिल के पास होते हैं।
  • ना कभी मुस्कुराहट तेरे होंठों से दूर हो;
    तेरी हर ख्वाहिश हक़ीकत को मंज़ूर हो;
    हो जाए जो तू मुझसे खफा;
    खुदा ना करे मुझसे कभी ऐसा कसूर हो।