• कोरोना के डर से इतनी दूरी भी ना बनायें,<br/>
कि आपका बाबू किसी और के काबू में आ जाये!
    कोरोना के डर से इतनी दूरी भी ना बनायें,
    कि आपका बाबू किसी और के काबू में आ जाये!
  • कामवाली पैसे लेने आई मैडम पैसे देकर बोली कि घर देख केसा चमक रहा है तू भी ऐसे ही काम करना!<br/>
कामवाली: भाभी मर्द का हाथ तो मर्द का ही होता है!
    कामवाली पैसे लेने आई मैडम पैसे देकर बोली कि घर देख केसा चमक रहा है तू भी ऐसे ही काम करना!
    कामवाली: भाभी मर्द का हाथ तो मर्द का ही होता है!
  • रामायण शुरू,<br/>
महाभारत शुरू,<br/>
शक्तिमान शुरू,<br/>
बचपन के दिन लौट आये!<br/>
बस डर है कहीं सरकार ये न कह दे कि...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
आपको स्कूल फिर से जाना पड़ेगा!
    रामायण शुरू,
    महाभारत शुरू,
    शक्तिमान शुरू,
    बचपन के दिन लौट आये!
    बस डर है कहीं सरकार ये न कह दे कि...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    आपको स्कूल फिर से जाना पड़ेगा!
  • भगवान सब्र दे उन लोगों को जिनकी बीवी मायके मे फंसी है और हिम्मत दे उन लोगों को जो बीवी के पास फंसे हैं!
    भगवान सब्र दे उन लोगों को जिनकी बीवी मायके मे फंसी है और हिम्मत दे उन लोगों को जो बीवी के पास फंसे हैं!
  • इस लॉकडाउन में इतना सो लिया कि अब तो सपने भी रिपीट होने लगे हैं!
    इस लॉकडाउन में इतना सो लिया कि अब तो सपने भी रिपीट होने लगे हैं!
  • न्यूज चैनल ने कोरोना के बारे में एक घंटा डराने के बाद अंत में कहा...<br/>
<br/>
<br/>
<br/>
लेकिन हमें डरने की आवश्यकता नहीं!
    न्यूज चैनल ने कोरोना के बारे में एक घंटा डराने के बाद अंत में कहा...



    लेकिन हमें डरने की आवश्यकता नहीं!
  • कमाल है, जिस घर को बनाने में जिंदगी लगा दी,<br/>

आज उसी घर में रहने से बेचैन है इंसान!
    कमाल है, जिस घर को बनाने में जिंदगी लगा दी,
    आज उसी घर में रहने से बेचैन है इंसान!
  • मैंने पत्नीजी से कहा... <br/>
इस लॉक डाउन मेंं मूझे एहसास हुआ कि `तुम क्या हो?` <br/>
आज मैं कहना चाहता हूं कि `तुम शांत, भोली, कभी न झगड़ने वाली एक सुंदर पत्नि हो` <br/>

पत्नि: मुझे इतना भी बुद्ध मत समझो... मैं इतनी आसानी से अप्रैल फूल नहीं बनने वाली!
    मैंने पत्नीजी से कहा... 
    इस लॉक डाउन मेंं मूझे एहसास हुआ कि "तुम क्या हो?"
    आज मैं कहना चाहता हूं कि "तुम शांत, भोली, कभी न झगड़ने वाली एक सुंदर पत्नि हो"
    पत्नि: मुझे इतना भी बुद्ध मत समझो... मैं इतनी आसानी से अप्रैल फूल नहीं बनने वाली!
  • पहला चरण तीसरा चरण चौथा चरण छोड़िए<br/>
केवल प्रभु के दो चरणों पर विश्वास रखिए और अपने चरणों को घर पर रखिए!
    पहला चरण तीसरा चरण चौथा चरण छोड़िए
    केवल प्रभु के दो चरणों पर विश्वास रखिए और अपने चरणों को घर पर रखिए!
  • इतिहास में यह पहली बार होगा काम सेठ व सेठानी करेगी और पगार नौकरानी को मिलेगी।
    इतिहास में यह पहली बार होगा काम सेठ व सेठानी करेगी और पगार नौकरानी को मिलेगी।