• कभी कभी दिल करता है<br/>
`फेसबुक छोड़ दूँ, व्हाट्सप्प छोड़ दूँ`<br/>
फिर आत्मा से आवाज़ आती है, `पागल हो गया है क्या, इस उम्र में कहाँ धक्के खायेगा?`
    कभी कभी दिल करता है
    "फेसबुक छोड़ दूँ, व्हाट्सप्प छोड़ दूँ"
    फिर आत्मा से आवाज़ आती है, "पागल हो गया है क्या, इस उम्र में कहाँ धक्के खायेगा?"
  • मैंने तो अपने पाप वाले घड़े में छेद कर रखा है!<br/>
क्योंकि वो भरने पे फूट जाने वाला झंझट ही नहीं चाहिए मुझे!
    मैंने तो अपने पाप वाले घड़े में छेद कर रखा है!
    क्योंकि वो भरने पे फूट जाने वाला झंझट ही नहीं चाहिए मुझे!
  • पत्नी: अगर मैं मर गयी तो आप रोएँगे क्या?<br/>
पति: तू पहले ये बता, मैं अभी हंस रहा हूँ क्या?
    पत्नी: अगर मैं मर गयी तो आप रोएँगे क्या?
    पति: तू पहले ये बता, मैं अभी हंस रहा हूँ क्या?
  • मेरी गर्दन में दर्द था डॉक्टर ने दवा लिख कर दी! जब स्टोर पर जाकर पर्ची खोला तो लिखा था...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
 लंबी तार वाला `चार्जर` ले लो!
    मेरी गर्दन में दर्द था डॉक्टर ने दवा लिख कर दी! जब स्टोर पर जाकर पर्ची खोला तो लिखा था...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    लंबी तार वाला "चार्जर" ले लो!
  • दो चीज़ें मर्दो को हमेशा अपनी ओर खींचती हैं...<br/>
मदिरा की दुकान और पड़ोसन की मुस्कान!
    दो चीज़ें मर्दो को हमेशा अपनी ओर खींचती हैं...
    मदिरा की दुकान और पड़ोसन की मुस्कान!
  • इंसान की फितरत भी अजीब है:<br/>
कल तक किसी को `अंकल-आंटी` कहो तो बुरा मान जाता था!<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
आज खुद अपने `बुढ़ापे` की फ़ोटो अपलोड करके मजे ले रहा है!
    इंसान की फितरत भी अजीब है:
    कल तक किसी को "अंकल-आंटी" कहो तो बुरा मान जाता था!
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    आज खुद अपने "बुढ़ापे" की फ़ोटो अपलोड करके मजे ले रहा है!
  • मेरा दोस्त पहले गरीब था उसने दुखी होकर छत से छलांग लगाई पर बच गया!<br/>
अब वो बहुत अमीर है क्योंकि...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
जान बची लाखों पाये!
    मेरा दोस्त पहले गरीब था उसने दुखी होकर छत से छलांग लगाई पर बच गया!
    अब वो बहुत अमीर है क्योंकि...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    जान बची लाखों पाये!
  • हेल्मेट और पत्नी दोनों का मिज़ाज़ एक जैसा होता है,<br/>
सिर पर बिठा कर रखो तो जान बची रहती है!
    हेल्मेट और पत्नी दोनों का मिज़ाज़ एक जैसा होता है,
    सिर पर बिठा कर रखो तो जान बची रहती है!
  • रोज सुबह ऑफ़िस जाकर जब बैग में से लैपटॉप, केबल चार्जर, माउस  निकालता हूं...<br/>
तो कसम से मदारी वाली फीलिंग आती है चल झमूरे शुरू कर अपना खेल!
    रोज सुबह ऑफ़िस जाकर जब बैग में से लैपटॉप, केबल चार्जर, माउस निकालता हूं...
    तो कसम से मदारी वाली फीलिंग आती है चल झमूरे शुरू कर अपना खेल!
  • दो पड़ोसन बात करती है तो एक दूसरे को भाभीजी कर के बोलती हैं!<br/>
वो जानती हैं कि अगर दीदी बोला तो जीजा जी के मन में लड्डू फूटेंगे!
    दो पड़ोसन बात करती है तो एक दूसरे को भाभीजी कर के बोलती हैं!
    वो जानती हैं कि अगर दीदी बोला तो जीजा जी के मन में लड्डू फूटेंगे!