• कर्तव्य ही ऐसा आदर्श है जो कभी धोखा नहीं दे सकता और धैर्य ही एक ऐसा कड़वा पौधा है जिस पर फल हमेशा मीठे आते हैं।
    कर्तव्य ही ऐसा आदर्श है जो कभी धोखा नहीं दे सकता और धैर्य ही एक ऐसा कड़वा पौधा है जिस पर फल हमेशा मीठे आते हैं।
  • ज़िन्दगी की यही रीत है,<br/>
पीठ पीछे सब कमीने और सामने सब स्वीट हैं!
    ज़िन्दगी की यही रीत है,
    पीठ पीछे सब कमीने और सामने सब स्वीट हैं!
  • आज अचानक उसे मेरी याद आयी है<br/>
लगता है फिर कोई मुसीबत उसके पास आई है!
    आज अचानक उसे मेरी याद आयी है
    लगता है फिर कोई मुसीबत उसके पास आई है!
  • मुर्गे से पूछा गया तुम्हें लोग जीने क्यों नहीं देते काट देते हैं।<br/>
मुर्गे ने कहा लोगों को जगाने वालों का यही हश्र होता है।
    मुर्गे से पूछा गया तुम्हें लोग जीने क्यों नहीं देते काट देते हैं।
    मुर्गे ने कहा लोगों को जगाने वालों का यही हश्र होता है।
  • पड़ोस वाली चाची 9 दिन व्रत रखकर माता को बुला रहीं थी!<br/>
12वें दिन पोती हो गई! तब से मुँह फुलाये बैठी हैं!
    पड़ोस वाली चाची 9 दिन व्रत रखकर माता को बुला रहीं थी!
    12वें दिन पोती हो गई! तब से मुँह फुलाये बैठी हैं!
  • मन की बात कह देने से, फैसले हो जाते हैं और मन में रख लेने से फासले हो जाते है!
    मन की बात कह देने से, फैसले हो जाते हैं और मन में रख लेने से फासले हो जाते है!
  • तू तो समझदार है , तू क्यों उसके मुंह लग रहा है...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
ये वो रामबाण वाक्य है जो लड़ाई को शांत करने के लिए बोला जाता है!
    तू तो समझदार है , तू क्यों उसके मुंह लग रहा है...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    ये वो रामबाण वाक्य है जो लड़ाई को शांत करने के लिए बोला जाता है!
  • शब्द कितनी भी समझदारी से इस्तेमाल कीजिये फिर भी सुनने वाला अपनी योग्यता और मन के विचारों के अनुसार ही उसका मतलब समझता है!
    शब्द कितनी भी समझदारी से इस्तेमाल कीजिये फिर भी सुनने वाला अपनी योग्यता और मन के विचारों के अनुसार ही उसका मतलब समझता है!
  • घर ने किचन सेट, डिनर सेट, सोफा सेट, सोने-चाँदी के सेट, सब कुछ अच्छी तरह सेट हो, पर घरवाले अपसेट हों तो सब व्यर्थ है!
    घर ने किचन सेट, डिनर सेट, सोफा सेट, सोने-चाँदी के सेट, सब कुछ अच्छी तरह सेट हो, पर घरवाले अपसेट हों तो सब व्यर्थ है!
  • जो स्नेह हमें दूसरों से मिलता है,<br/>
वो हमारे चरित्र का ही एक तोहफा है!
    जो स्नेह हमें दूसरों से मिलता है,
    वो हमारे चरित्र का ही एक तोहफा है!