• जब तक रास्ते समझ आते हैं तब तक लौटने का समय हो जाता है, यही ज़िन्दगी है!
    जब तक रास्ते समझ आते हैं तब तक लौटने का समय हो जाता है, यही ज़िन्दगी है!
  • सुन लेने से कितने सारे सवाल सुलझ जाते हैं,<br/>
सुना देने से हम फिर से वहीं उलझ जाते हैं!
    सुन लेने से कितने सारे सवाल सुलझ जाते हैं,
    सुना देने से हम फिर से वहीं उलझ जाते हैं!
  • जिस दिन आप अपनी हँसी के मालिक ख़ुद बन जाओगे!<br/>
तब आपको कोई भी नहीं रुला सकता!
    जिस दिन आप अपनी हँसी के मालिक ख़ुद बन जाओगे!
    तब आपको कोई भी नहीं रुला सकता!
  • एक हरियाणवी से मेज़बान ने पूछा,<br/>
`चौधरी साहब क्या लेंगे आप, हलवा लाऊं या खीर?`<br/>
चौधरी: घर में कटोरी एक ही है के?
    एक हरियाणवी से मेज़बान ने पूछा,
    "चौधरी साहब क्या लेंगे आप, हलवा लाऊं या खीर?"
    चौधरी: घर में कटोरी एक ही है के?
  • बड़ा होने के लिए हमेशा मर्यादा में  रहना पड़ता है!<br/>
क्योंकि हर बड़ी कंपनी के नाम में भी आखिरी में 'लिमिटेड' लिखा होता है!
    बड़ा होने के लिए हमेशा मर्यादा में रहना पड़ता है!
    क्योंकि हर बड़ी कंपनी के नाम में भी आखिरी में 'लिमिटेड' लिखा होता है!
  • समझ से ज्ञान से ज़्यादा गहरी होती है!<br/>
बहुत से लोग आपको जानते हैं लेकिन कुछ ही आपको समझते हैं!
    समझ से ज्ञान से ज़्यादा गहरी होती है!
    बहुत से लोग आपको जानते हैं लेकिन कुछ ही आपको समझते हैं!
  • प्रतिमा में भगवान हो या चाहे नहीं हो प्रति 'माँ' में भगवान होते हैं!
    प्रतिमा में भगवान हो या चाहे नहीं हो प्रति 'माँ' में भगवान होते हैं!
  • आज ट्रैक्टर पैट्रोल पम्प पर रोकते ही सैल्समैन ने कहा ताऊ 'जीरो' देख ले, ताऊ से भी रहा नही गया ओर बोला, <br/>
`बेटे 2019 मै देखुंगा! तु डीजल डाल दे!`
    आज ट्रैक्टर पैट्रोल पम्प पर रोकते ही सैल्समैन ने कहा ताऊ 'जीरो' देख ले, ताऊ से भी रहा नही गया ओर बोला,
    "बेटे 2019 मै देखुंगा! तु डीजल डाल दे!"
  • हरियाणवी फ्लर्ट:<br/>
छोरा: कुणसी क्रीम लगाया करे तू बैरण?<br/>
छोरी: कोयसी भी ना।<br/>
छोरा: फेर लगाया कर `भुंडी सकल की`।
    हरियाणवी फ्लर्ट:
    छोरा: कुणसी क्रीम लगाया करे तू बैरण?
    छोरी: कोयसी भी ना।
    छोरा: फेर लगाया कर "भुंडी सकल की"।
  • जेब में ज़रा सा सुराख़ क्या हुआ,<br/>
सिक्कों से ज़्यादा रिश्ते गिर पडे।
    जेब में ज़रा सा सुराख़ क्या हुआ,
    सिक्कों से ज़्यादा रिश्ते गिर पडे।