• तेरे पैगाम के इंतज़ार में दिन गुज़ार दिया,<br/>
अब रहने देना, ख्वाबों में मिल लूँगा रात में।<br/>
शुभरात्रि!
    तेरे पैगाम के इंतज़ार में दिन गुज़ार दिया,
    अब रहने देना, ख्वाबों में मिल लूँगा रात में।
    शुभरात्रि!
  • तब तक कमाओ जब तक महंगी चीज़ सस्ती ना लगने लगे;<br/>
चाहे वो सम्मान हो या सामान।<br/>
सुप्रभात!
    तब तक कमाओ जब तक महंगी चीज़ सस्ती ना लगने लगे;
    चाहे वो सम्मान हो या सामान।
    सुप्रभात!
  • सितारों को भेजा है आपको सुलाने के लिए;<br/>
चाँद आया है आपको लोरी सुनाने के लिए;<br/>
सो जाओ मीठे ख़्वाबों में आप;<br/>
सुबह सूरज को भेजेंगे आपको जगाने के लिए।<br/>
शुभरात्रि!
    सितारों को भेजा है आपको सुलाने के लिए;
    चाँद आया है आपको लोरी सुनाने के लिए;
    सो जाओ मीठे ख़्वाबों में आप;
    सुबह सूरज को भेजेंगे आपको जगाने के लिए।
    शुभरात्रि!
  • सकारात्मक सोच आपके जीवन को सही दिशा देती है।<br/>
सही सोचें, सही समझें, सही दिशा मे बढें।<br/>
सुप्रभात!
    सकारात्मक सोच आपके जीवन को सही दिशा देती है।
    सही सोचें, सही समझें, सही दिशा मे बढें।
    सुप्रभात!
  • दो पल की ज़िन्दगी है इसे जीने के सिर्फ दो असूल बना लो,<br/>
रहो तो फूलों की तरह और बिखरो तो खुशबू की तरह।<br/>
सुप्रभात!
    दो पल की ज़िन्दगी है इसे जीने के सिर्फ दो असूल बना लो,
    रहो तो फूलों की तरह और बिखरो तो खुशबू की तरह।
    सुप्रभात!
  • स्वर्ग का सपना छोड़ दो,<br/>
नरक का डर छोड़ दो,<br/>
कौन जाने क्या पाप, क्या पुण्य,<br/>
बस किसी का दिल न दुखे अपने स्वार्थ के लिए,<br/>
बाक़ी सब कुदरत पर छोड़ दो।<br/>
सुप्रभात!
    स्वर्ग का सपना छोड़ दो,
    नरक का डर छोड़ दो,
    कौन जाने क्या पाप, क्या पुण्य,
    बस किसी का दिल न दुखे अपने स्वार्थ के लिए,
    बाक़ी सब कुदरत पर छोड़ दो।
    सुप्रभात!
  • हमने ज़िन्दगी बितायी आँख सिरहाने लेकर;<br/>
रात दुल्हन सी आयी ख़्वाब सुहाने लेकर।<br/>
शुभरात्रि!
    हमने ज़िन्दगी बितायी आँख सिरहाने लेकर;
    रात दुल्हन सी आयी ख़्वाब सुहाने लेकर।
    शुभरात्रि!
  • ज़िन्दगी तब बेहतर होती है जब हम खुश होते हैं,<br/>
लेकिन यकीन करो ज़िन्दगी तब बेहतरीन हो जाती है जब हमारी वजह से सब खुश होते हैं।<br/>
सुप्रभात!
    ज़िन्दगी तब बेहतर होती है जब हम खुश होते हैं,
    लेकिन यकीन करो ज़िन्दगी तब बेहतरीन हो जाती है जब हमारी वजह से सब खुश होते हैं।
    सुप्रभात!
  • दौलत छोड़ी दुनिया छोड़ी सारा खज़ाना छोड़ दिया;<br/>
सतगुरु के प्यार में दीवानों ने राज घराना छोड़ दिया;<br/>
दरवाज़े पे जब लिखा हमने नाम हमारे सतगुरु का;<br/>
मुसीबत ने दरवाज़े पे आना छोड़ दिया।<br/>
सुप्रभात!
    दौलत छोड़ी दुनिया छोड़ी सारा खज़ाना छोड़ दिया;
    सतगुरु के प्यार में दीवानों ने राज घराना छोड़ दिया;
    दरवाज़े पे जब लिखा हमने नाम हमारे सतगुरु का;
    मुसीबत ने दरवाज़े पे आना छोड़ दिया।
    सुप्रभात!
  • देर मैंने ही लगाई पहचानने में ऐ भगवान,<br/>
वरना तुमने जो दिया उसका तो कोई हिसाब ही नहीं;<br/>
जैसे जैसे मैं सिर को झुकाता चला गया,<br/>
वैसे वैसे तू मुझे उठाता चला गया।<br/>
सुप्रभात!
    देर मैंने ही लगाई पहचानने में ऐ भगवान,
    वरना तुमने जो दिया उसका तो कोई हिसाब ही नहीं;
    जैसे जैसे मैं सिर को झुकाता चला गया,
    वैसे वैसे तू मुझे उठाता चला गया।
    सुप्रभात!