• तब तक कमाओ जब तक महंगी चीज़ सस्ती ना लगने लगे;<br/>
चाहे वो सम्मान हो या सामान।<br/>
सुप्रभात!Upload to Facebook
    तब तक कमाओ जब तक महंगी चीज़ सस्ती ना लगने लगे;
    चाहे वो सम्मान हो या सामान।
    सुप्रभात!
  • सितारों को भेजा है आपको सुलाने के लिए;<br/>
चाँद आया है आपको लोरी सुनाने के लिए;<br/>
सो जाओ मीठे ख़्वाबों में आप;<br/>
सुबह सूरज को भेजेंगे आपको जगाने के लिए।<br/>
शुभरात्रि!Upload to Facebook
    सितारों को भेजा है आपको सुलाने के लिए;
    चाँद आया है आपको लोरी सुनाने के लिए;
    सो जाओ मीठे ख़्वाबों में आप;
    सुबह सूरज को भेजेंगे आपको जगाने के लिए।
    शुभरात्रि!
  • सकारात्मक सोच आपके जीवन को सही दिशा देती है।<br/>
सही सोचें, सही समझें, सही दिशा मे बढें।<br/>
सुप्रभात!Upload to Facebook
    सकारात्मक सोच आपके जीवन को सही दिशा देती है।
    सही सोचें, सही समझें, सही दिशा मे बढें।
    सुप्रभात!
  • दो पल की ज़िन्दगी है इसे जीने के सिर्फ दो असूल बना लो,<br/>
रहो तो फूलों की तरह और बिखरो तो खुशबू की तरह।<br/>
सुप्रभात!Upload to Facebook
    दो पल की ज़िन्दगी है इसे जीने के सिर्फ दो असूल बना लो,
    रहो तो फूलों की तरह और बिखरो तो खुशबू की तरह।
    सुप्रभात!
  • स्वर्ग का सपना छोड़ दो,<br/>
नरक का डर छोड़ दो,<br/>
कौन जाने क्या पाप, क्या पुण्य,<br/>
बस किसी का दिल न दुखे अपने स्वार्थ के लिए,<br/>
बाक़ी सब कुदरत पर छोड़ दो।<br/>
सुप्रभात!Upload to Facebook
    स्वर्ग का सपना छोड़ दो,
    नरक का डर छोड़ दो,
    कौन जाने क्या पाप, क्या पुण्य,
    बस किसी का दिल न दुखे अपने स्वार्थ के लिए,
    बाक़ी सब कुदरत पर छोड़ दो।
    सुप्रभात!
  • हमने ज़िन्दगी बितायी आँख सिरहाने लेकर;<br/>
रात दुल्हन सी आयी ख़्वाब सुहाने लेकर।<br/>
शुभरात्रि!Upload to Facebook
    हमने ज़िन्दगी बितायी आँख सिरहाने लेकर;
    रात दुल्हन सी आयी ख़्वाब सुहाने लेकर।
    शुभरात्रि!
  • ज़िन्दगी तब बेहतर होती है जब हम खुश होते हैं,<br/>
लेकिन यकीन करो ज़िन्दगी तब बेहतरीन हो जाती है जब हमारी वजह से सब खुश होते हैं।<br/>
सुप्रभात!Upload to Facebook
    ज़िन्दगी तब बेहतर होती है जब हम खुश होते हैं,
    लेकिन यकीन करो ज़िन्दगी तब बेहतरीन हो जाती है जब हमारी वजह से सब खुश होते हैं।
    सुप्रभात!
  • दौलत छोड़ी दुनिया छोड़ी सारा खज़ाना छोड़ दिया;<br/>
सतगुरु के प्यार में दीवानों ने राज घराना छोड़ दिया;<br/>
दरवाज़े पे जब लिखा हमने नाम हमारे सतगुरु का;<br/>
मुसीबत ने दरवाज़े पे आना छोड़ दिया।<br/>
सुप्रभात!Upload to Facebook
    दौलत छोड़ी दुनिया छोड़ी सारा खज़ाना छोड़ दिया;
    सतगुरु के प्यार में दीवानों ने राज घराना छोड़ दिया;
    दरवाज़े पे जब लिखा हमने नाम हमारे सतगुरु का;
    मुसीबत ने दरवाज़े पे आना छोड़ दिया।
    सुप्रभात!
  • देर मैंने ही लगाई पहचानने में ऐ भगवान,<br/>
वरना तुमने जो दिया उसका तो कोई हिसाब ही नहीं;<br/>
जैसे जैसे मैं सिर को झुकाता चला गया,<br/>
वैसे वैसे तू मुझे उठाता चला गया।<br/>
सुप्रभात!Upload to Facebook
    देर मैंने ही लगाई पहचानने में ऐ भगवान,
    वरना तुमने जो दिया उसका तो कोई हिसाब ही नहीं;
    जैसे जैसे मैं सिर को झुकाता चला गया,
    वैसे वैसे तू मुझे उठाता चला गया।
    सुप्रभात!
  • भाग्य से जितना अधिक उम्मीद करेंगे वह उतना ही निराश करेगा।<br/>
कर्म में विश्वास रखें, आपको अपनी अपेक्षाओं से सदैव अधिक मिलेगा।<br/>
सुप्रभात!Upload to Facebook
    भाग्य से जितना अधिक उम्मीद करेंगे वह उतना ही निराश करेगा।
    कर्म में विश्वास रखें, आपको अपनी अपेक्षाओं से सदैव अधिक मिलेगा।
    सुप्रभात!
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT