• सुबह की हलकी रौशनी, परिंदो के सुरीले गीत,<br/>
हवा के मधेयम झोंके, रंग बिरंगे फूलों की दीद।<br/>
सुप्रभात!
    सुबह की हलकी रौशनी, परिंदो के सुरीले गीत,
    हवा के मधेयम झोंके, रंग बिरंगे फूलों की दीद।
    सुप्रभात!
  • चलो सो जाते हैं अब फिर किसी सच की तालाश में;<br/>
कल फिर सुबह उठ कर फिर से झूठी दुनिया का दीदार करना है।<br/>
शुभरात्रि!
    चलो सो जाते हैं अब फिर किसी सच की तालाश में;
    कल फिर सुबह उठ कर फिर से झूठी दुनिया का दीदार करना है।
    शुभरात्रि!
  • सूरज निकल रहा है पूरब से;<br/>
दिन शुरू हुआ आपकी याद से;<br/>
कहना चाहते हैं हम आपको दिल से;<br/>
हर दिन हो जाये अच्छा आपकी प्यारी सी मुस्कान से।<br/>
सुप्रभात!
    सूरज निकल रहा है पूरब से;
    दिन शुरू हुआ आपकी याद से;
    कहना चाहते हैं हम आपको दिल से;
    हर दिन हो जाये अच्छा आपकी प्यारी सी मुस्कान से।
    सुप्रभात!
  • मीठी रातों में धीरे से आ जाती है एक परी;<br/>
कुछ ख़ुशी के सपने साथ लाती है एक परी;<br/>
कहती है कि सपनों के सागर में डूब जाओ;<br/>
भूल के सारे दर्द जल्दी से सो जाओ।<br/>
शुभरात्रि!
    मीठी रातों में धीरे से आ जाती है एक परी;
    कुछ ख़ुशी के सपने साथ लाती है एक परी;
    कहती है कि सपनों के सागर में डूब जाओ;
    भूल के सारे दर्द जल्दी से सो जाओ।
    शुभरात्रि!
  • नयी-नयी सुबह, नया-नया सवेरा;<br/>
सूरज की किरणों में हवाओं का बसेरा;<br/>
खुले आसमान में सूरज का सवेरा;<br/>
मुबारक़ हो आपको ये हसीं सवेरा।
    नयी-नयी सुबह, नया-नया सवेरा;
    सूरज की किरणों में हवाओं का बसेरा;
    खुले आसमान में सूरज का सवेरा;
    मुबारक़ हो आपको ये हसीं सवेरा।
  • ये रात चांदनी बन कर आपके आँगन में आये;<br/>
ये तारे सारे लोरी गाकर आपको सुलायें;<br/>
हों इतने प्यारे सपने आपके;<br/>
कि नींद में भी आप मुस्कराएं।<br/>
शुभरात्रि!
    ये रात चांदनी बन कर आपके आँगन में आये;
    ये तारे सारे लोरी गाकर आपको सुलायें;
    हों इतने प्यारे सपने आपके;
    कि नींद में भी आप मुस्कराएं।
    शुभरात्रि!
  • हर फूल आपको अरमान दे;<br/>
हर सुबह आपको सलाम दे;<br/>
अगर आपका एक आँसू भी निकले,<br/>
तो खुदा आपको उससे दोगुनी मुस्कान दे।<br/>
सुप्रभात।
    हर फूल आपको अरमान दे;
    हर सुबह आपको सलाम दे;
    अगर आपका एक आँसू भी निकले,
    तो खुदा आपको उससे दोगुनी मुस्कान दे।
    सुप्रभात।
  • गुलाब खिलते रहें ज़िन्दगी की राह में राह में;<br/>
हँसी चमकती रहे आपकी निगाह में;<br/>
ख़ुशी की बहार मिले हर क़दम पर आपको;<br/>
देता है दिल यह दुआ बार-बार आपको।<br/>
जन्मदिन मुबारक
    गुलाब खिलते रहें ज़िन्दगी की राह में राह में;
    हँसी चमकती रहे आपकी निगाह में;
    ख़ुशी की बहार मिले हर क़दम पर आपको;
    देता है दिल यह दुआ बार-बार आपको।
    जन्मदिन मुबारक
  • हो मुबारक आपको यह सुहानी रात;<br/>
मिले ख्वाबों में भी खुदा का साथ;<br/>
खुले जब आपकी मदहोश आँखें;<br/>
तो ढेरों खुशियाँ हो आपके साथ।<br/>
शुभ रात्रि!
    हो मुबारक आपको यह सुहानी रात;
    मिले ख्वाबों में भी खुदा का साथ;
    खुले जब आपकी मदहोश आँखें;
    तो ढेरों खुशियाँ हो आपके साथ।
    शुभ रात्रि!
  • बहार आती है आपके गुन गुनाने से;<br/>
फूल खिलते हैं आपके मुस्कुराने से;<br/>
अब जाग भी जाओ, मेरे प्यारे दोस्त;
क्योंकि हर सुबह होती है आपके चह-चहाने से।<br/>
सुप्रभात!
    बहार आती है आपके गुन गुनाने से;
    फूल खिलते हैं आपके मुस्कुराने से;
    अब जाग भी जाओ, मेरे प्यारे दोस्त; क्योंकि हर सुबह होती है आपके चह-चहाने से।
    सुप्रभात!
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT