• आप हमारे सबसे अच्छे दोस्त हैं;<br/>
यह दिल से कहते हैं हम;<br/>
इसलिए आपको रोज़ याद करते हैं हम;<br/>
बाकी कुछ कहें न कहें रोज़ रात को आप को शुभ रात्रि कहते हैं हम।
    आप हमारे सबसे अच्छे दोस्त हैं;
    यह दिल से कहते हैं हम;
    इसलिए आपको रोज़ याद करते हैं हम;
    बाकी कुछ कहें न कहें रोज़ रात को आप को शुभ रात्रि कहते हैं हम।
  • कायनात के सारे रंग;<br/>
रंगों के सारे फूल;<br/>
फूलों की सारी खुशबू;<br/>
खुशबू की सारी ख़ुशी;<br/>
ख़ुशी के हर लम्हें;<br/>
और इन लम्हों से भरपूर ज़िंदगी की दुआ सिर्फ आप के नाम।<br/>
सुप्रभात!
    कायनात के सारे रंग;
    रंगों के सारे फूल;
    फूलों की सारी खुशबू;
    खुशबू की सारी ख़ुशी;
    ख़ुशी के हर लम्हें;
    और इन लम्हों से भरपूर ज़िंदगी की दुआ सिर्फ आप के नाम।
    सुप्रभात!
  • मुझे नींद की इजाज़त भी उसकी यादों से लेनी पड़ती है;<br/>
जो खुद तो सो जाता है, मुझे करवटों में छोड़ कर!<br/>
शुभ रात्रि!
    मुझे नींद की इजाज़त भी उसकी यादों से लेनी पड़ती है;
    जो खुद तो सो जाता है, मुझे करवटों में छोड़ कर!
    शुभ रात्रि!
  • रात की तन्हाई में तो हर कोई याद कर लेता है ए दोस्त;<br/>
सुबह उठते ही जो याद आये दोस्ती उसे कहते हैं।<br/>
सुप्रभात!
    रात की तन्हाई में तो हर कोई याद कर लेता है ए दोस्त;
    सुबह उठते ही जो याद आये दोस्ती उसे कहते हैं।
    सुप्रभात!
  • हर दिन से प्यारा लगता है हमें ये खास दिन;
    हम जिसे बिताना नहीं चाहते आप बिन;
    वैसे तो दिल देता है सदा ही दुआ;
    फिर भी कहते हैं आपको मुबारक हो आपका जन्मदिन।
  • हर पल हर रात आपके साथ उजाला हो;<br/>
हर कोई सदा आपका चाहने वाला हो;<br/>
वक़्त बीत जाये उनकी याद के सहारे;<br/>
ऐसा कोई आपके सपने सजाने वाला हो।<br/>
शुभ रात्रि!
    हर पल हर रात आपके साथ उजाला हो;
    हर कोई सदा आपका चाहने वाला हो;
    वक़्त बीत जाये उनकी याद के सहारे;
    ऐसा कोई आपके सपने सजाने वाला हो।
    शुभ रात्रि!
  • हर सुबह की धूप कुछ याद दिलाती है;<br/>
हर फूल की खुशबू एक जादू जगाती है;<br/>
तुम मानो न मानो पैर यह सच है मेरे यार;<br/>
सुबह होते ही तुम्हारी याद आ जाती है।<br/>
सुप्रभात!
    हर सुबह की धूप कुछ याद दिलाती है;
    हर फूल की खुशबू एक जादू जगाती है;
    तुम मानो न मानो पैर यह सच है मेरे यार;
    सुबह होते ही तुम्हारी याद आ जाती है।
    सुप्रभात!
  • सुबह की हलकी रौशनी, परिंदो के सुरीले गीत,<br/>
हवा के मधेयम झोंके, रंग बिरंगे फूलों की दीद।<br/>
सुप्रभात!
    सुबह की हलकी रौशनी, परिंदो के सुरीले गीत,
    हवा के मधेयम झोंके, रंग बिरंगे फूलों की दीद।
    सुप्रभात!
  • चलो सो जाते हैं अब फिर किसी सच की तालाश में;<br/>
कल फिर सुबह उठ कर फिर से झूठी दुनिया का दीदार करना है।<br/>
शुभरात्रि!
    चलो सो जाते हैं अब फिर किसी सच की तालाश में;
    कल फिर सुबह उठ कर फिर से झूठी दुनिया का दीदार करना है।
    शुभरात्रि!
  • सूरज निकल रहा है पूरब से;<br/>
दिन शुरू हुआ आपकी याद से;<br/>
कहना चाहते हैं हम आपको दिल से;<br/>
हर दिन हो जाये अच्छा आपकी प्यारी सी मुस्कान से।<br/>
सुप्रभात!
    सूरज निकल रहा है पूरब से;
    दिन शुरू हुआ आपकी याद से;
    कहना चाहते हैं हम आपको दिल से;
    हर दिन हो जाये अच्छा आपकी प्यारी सी मुस्कान से।
    सुप्रभात!