• उससे कह दो कि रोक ले अपनी यादों को;<br/>
बहन की लौड़ी नए कच्छे का नास करवाएगी!
    उससे कह दो कि रोक ले अपनी यादों को;
    बहन की लौड़ी नए कच्छे का नास करवाएगी!
  • हम न चोद सके उन्हें, मुद्दतो तक चाहने के बाद,
    वो गैरो से चुद गये, चंद रस्में निभाने के बाद।
  • अर्ज़ किया है:
    जिस दिन उनसे दिल लगा बैठे;
    तनहा में सुकून कि माँ चुदा बैठे।
    वो तो सो गयी, किसी और के बिस्तर पे;
    और हम अपनी ही झांटो में आग लगा बैठे।
  • अर्ज़ किया है:<br />
उड़ती हुई फ्रॉक को काबू में रखो;<br />
उड़ती हुई फ्रॉक को काबू में रखो;<br />
वाह! वाह!<br />
पैंटी ना पहनो कोई बात नहीं, कम से कम बगीचा तो साफ़ रखो।
    अर्ज़ किया है:
    उड़ती हुई फ्रॉक को काबू में रखो;
    उड़ती हुई फ्रॉक को काबू में रखो;
    वाह! वाह!
    पैंटी ना पहनो कोई बात नहीं, कम से कम बगीचा तो साफ़ रखो।
  • मेरे इश्क का जूनून देख ए हसीना गिले शिकवों में ना वक्त बर्बाद कर;
    क्योंकि ऐसी गांड मराई के लिए तो अभी सारी ज़िन्दगी बाकि है!
  • शिकवा न कर, गिला न कर;
    बस इतनी सी गुजारिश है;
    जब भी मैं तेरे में डालूं;
    बस तू हिला न कर।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
Top Authors