• मारना ही था तो कुछ और तरीका अपना लेती जालिम,
    जहर भी चटाया तो चूत पे लगाके।
  • 'सपना' को देखकर 'सपने' मे 'स्वपनदोष' हो गया;
    'सपना' भी बच गई ओर 'संतोष' भी हो गया।
  • सींग नही होते लोमड़ी के,
    सींग नही होते लोमड़ी के,
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    और कैसा रहा आज का दिन भोसड़ी के?
  • मोहब्बत की आजमाइश देते-देते थक गया हूँ ए-गालिब,
    लगता है अब पैसे देकर ही किसी की लेनी पड़ेगी।
  • उसने उतारी साडी,
    फिर आई पेटीकोट की बारी;
    ब्लाउज तो पहले ही दिया था उतार;
    ज्यादा उत्साहित ना हो मेरे यार,
    यह तो था कपडे सुखाने का तार।
  • कौन कहता है लंड यहां मूतने को आता है;
    हम खुश हुए कि हम भी इसकी उपज हैं;
    लेकिन अफ़सोस, यह तुम्हें मिलकर मालूम हुआ;
    कि यह तेरे जैसे गांडू भी बनाता है।
  • चोद-चोद चोद गये, जब पकड़े गये छेदु राम हकीम;
    मसल-मसल के टपक-टपक लिए उन्होंने मज़े खूब।
    जान पे आन भनी जब साली की इश्क़ में गये डूब;
    बीवी ने भी खूब पकड़ा, जब मुँह में थे साली के बूब्स।
  • चाहत तो थी उनके दिल में बस जाने की;
    कम्बखत ने ब्लाउस के बटन ही ना खोले!
  • अतीत के पन्नों में झाँका तो ये लगा;
    आज मेरा स्वार्थ मेरे संस्कारों से भी बड़ा हो गया;
    बचपन में जिन्हें मैडम जी कह कर पैर छूता था
    आज फिर से उन्हें देखा तो लौड़ा खड़ा हो गया।
  • न देख ऐसे आसमान को इतनी हसरत से, मेरे प्यारे दोस्त;
    किसी परिन्दे ने मुँह पर हग दिया तो सारी हसरतों की "माँ चुद" जायेगी!