\
एसडबल्यूए अवार्ड्स 2020 की वेब सीरिज़ श्रेणी के लिए ज्यूरी के नाम घोषित
Monday, September 14, 2020 12:52 IST
By Santa Banta News Network
स्क्रीनराइटर्स असोसिएशन (एसडबल्यूए), स्क्रीनराइटर्स और गीतकारों की भारतीय संघटना, ने आज एसडबल्यूए अवार्ड्स 2020 के ज्यूरी के नाम घोषित किये, जिन्होने वेब सिरीज़ श्रेणी के लिए नामांकन चुने हैंl सर्वश्रेष्ठ वेब सिरीज़ ओरिजनल कॉमेडी, सर्वश्रेष्ठ वेब सिरीज़ ओरिजनल ड्रामा तथा सर्वोत्कृष्ठ वेब सिरीज़ एडाप्टेशन, इन तीनों श्रेणियों के लिए तीन सदस्यों वाले तीन अलग अलग ज्यूरी नियुक्त किये गएl

ज्यूरी - वेब सिरीज़- ओरिजनल कॉमेडी

1. रेशुनाथ (बोस: डेड/अलाइव, ब्रोकन बट ब्यूटीफुल)
2. शिव सुब्रमण्यम (परिंदा, हजारों ख्वाहिशें ऐसी)
3. जूही शेखर (गुमराह, एसीपी अर्जुन)
ज्यूरी - वेब सिरीज़- ओरिजनल ड्रामा

1. सुहैल तातारी (रिपोर्टर, टेनिस बडीज)
2. रूचि नारायण (गिल्टी, कल: यस्टरडे अँड टुमॉरो)
3. स्वेक्षा भगत (कुबूल है, पेशवा बाजीराव) ज्यूरी - वेब एडाप्टेशन

1. अनुराधा तिवारी (फॅशन, हिरोइन)
2. अनुया जकातदार (AIB, सन ऑफ़ अबिश)
3. केतकी पंडित (कॅफे गुड लक, द कॅप्टिव)

वेब सिरीज़ की दिनों दिन बढ़ती लोकप्रियता के बारे में कहते हुए एसडबल्यूए के अध्यक्ष श्री रोबिन भट्ट ने कहा, `घर में आराम से बैठकर सिनेमा जैसी अनुभूति देनेवाली आकर्षक कहानियाँ ऑन लाइन माध्यमों से सुनाई जाती हैंl कहानियाँ कहने का यह नया माध्यम मूल धारा से कुछ अलग हटके नए ढंग से दर्शकों को परिचित करा रहा हैl इसी माध्यम में कुछ उल्लेखनीय नए स्क्रीनराइटर्स ने अपना स्थान बना लिया हैl एसडबल्यूए अवार्ड 2020 ऐसे निडर,मुखर, और बहादुर लेखकों को अवार्ड देने के लिए पूरी तरह से तैयार हैl`

एसडबल्यूए अवार्ड कमिटी को 2019 में 'ओव्हर द टॉप(ओटीटी)' प्लेटफ़ार्म से हिंदी भाषा में प्रसारित वेब सिरीज़ की 43 प्रविष्टियाँ प्राप्त हुईl तीन ज्यूरी पैनल ने इन प्रविष्टियों का मूल्यांकन उनकी श्रेणी के अनुसार किया और वेब ओरिजनल कॉमेडी, वेब ओरिजनल ड्रामा श्रेणी के लिए 5 नामांकन तथा वेब रूपांतर के लिए 3 नामांकन चुनेl नामांकन 12 सितम्बर को ऑनलाइन घोषित किये जायेंगेl तथा अंतिम विजेता ऑनलाइन अवार्ड समारोह में 27 सितम्बर को घोषित किये जायेंगे

एसडबल्यूए अवार्ड कमिटी के चेयर पर्सन, श्रीधर रंगायन ने कहा, ` इस लॉकडाउन के दौरान आप किसी से भी पूछेंगे कि आप क्या देखते हैं, तो जवाब होगा, 'वेब सिरीज़'! वेब सिरीज़ हमारी इस मनोरंजन की दुनिया का अभी तक का सबसे नन्हा नटखट बच्चा है, जो हमें अत्यधिक रोमांचक आशय प्रदान करता है; इसमे ना कोई सेंसरशिप है, ना कोई जाने माने टीवी या फ़िल्मी सितारे! देश के अनेक भागों से मिली सामान्य कहानियाँ ही इनकी ताकत हैl ज्यूरी ने अपना कीमती समय, मिली हुई प्रविष्टियों का मूल्यांकन करने के लिए और नामांकन चुनने के लिए हमें दिया, इसके लिए हम उनके प्रति आभार व्यक्त करते हैंl` एसडबल्यूए ने साल 2020 में अपने हीरक जयंती वर्ष के अवसर पर एसडबल्यूए अवार्ड का शुभारम्भ किया हैl इन अवार्ड्स का चयन जाने-माने स्क्रीनराइटर्स तथा गीतकारों द्वारा किया गया है, जो की लेखक वर्ग तथा साहित्यिक संगठनो में दिए जाने वाले अन्य अंतरराष्ट्रीय अवार्ड्स के समान ही भारतीय लेखकों के लिए ये अवार्ड्स भी प्रतिष्ठित तथा मान्यताप्राप्त कहलायेंगे ऐसा विश्वास हैl

एसडबल्यूए से बात करते हुए ज्यूरी मेंबर्स ने लेखक तथा निर्णायक सदस्य होने के नाते अपने अनुभव साझा कियेl वेब सिरीज़- ओरिजनल कॉमेडी श्रेणी की ज्यूरी मेम्बर और 'बोस: डेड/अलाइव' और 'ब्रोकन बट ब्यूटीफुल' जैसी चर्चित शो लिखने वाली रेशू नाथ कहती हैं,`हर स्क्रिप्ट का एक अंकुरण का वक़्त होता है। एक बार जब यह आकार पा लेता है तो हम इसे दुनिया को दे देते हैं। कई बार यह अपने सम्पूर्ण योग से भी अधिक तो कई बार अपने आकार में उपयुक्त होने के लिए थोड़े काट छाँट के साथ कम होता है। यह हमको निराश करता है लेकिन फिर भी यह हमारा ही रचनात्मक शिशु होता है। एक लेखक के कार्य का मूल्यांकन करने के लिए एक लेखक से बेहतर कौन हो सकता है जो स्वयं उस रचनात्मक पीड़ा और आनंद को अनुभव कर चुका हो। और जब एसडबल्यूए अपने ही लेखक सहकर्मियों द्वारा मूल्यांकन किए जाने का अवसर देता है तो सबको पता है की यह एक वास्तविक सत्यापन और मूल्यांकन है।`

वेब सिरीज़- ओरिजनल कॉमेडी के ज्यूरी मेम्बर और जाने माने लेखक शिव सुब्रमण्यम का मानना है की, `एसडबल्यूए अवार्ड जैसा सम्मान दिया जाना पूरे लेखक समुदाय के लिए महत्वपूर्ण पल है। मैं समझता हूँ की यह लेखन कौशल में मौलिकता और उत्कृष्टता की धारणा को पहचान दिलाएगा। मैं इसका इंतजार कर रहा हूँ।`

जूही शेखर जो की वेब सिरीज़- ओरिजनल कॉमेडी श्रेणी की ज्यूरी मेम्बर है, अपने अनुभव साझा करते हुये कहती हैं,`एसडबल्यूए के इस पहले अवार्ड के निर्णायक मण्डल में होना मेरे लिए गौरव की बात है। इस अभूतपूर्व शुरुआत का मकसद लेखकों के हुनर को सम्मानित करना है। एसडबल्यूए लेखकों के समर्थन में निरंतर काम करता रहा है; चाहे वह उनके कौशल को बेहतर बनाने के लिए हो या लेखकों के उचित श्रेय और उचित पारिश्रमिक के लिए संघर्ष का मुद्दा हो। अब यह अवार्ड उसी गर्मजोशी के साथ अपने सहयोगी लेखकों के काम को सराहने के साथ उनके समुदाय को साथ ले आने के लिए हैं। ऐसे प्रयास हम में से प्रत्येक को बेहतर बनाने के लिए हैं ताकि हम अपने चुने हुये रास्ते पर मजबूती से आगे बढ़ते रहें।`

सोहेल तातारी जी ने एसडबल्यूए अवार्ड के विषय में कहा है,`एसडबल्यूए अपना अवार्ड शुरू कर रहा है जो की बहुत अच्छा विचार है। निर्णायक मण्डल के एक सदस्य के रूप में ऐसे रचनात्मक और उम्दा काम देखना जो ओटीटी की श्रेणी में बनाया जा रहा है, एक अच्छा अनुभव रहा। यह एक नया माध्यम है लेकिन लगता है की इंडस्ट्री के रचनात्मक लोगों को काफी पसंद आ चुका है। मुझे लगता है की आने वाले समय में यह बहुत अच्छा होने वाला है और इसमे प्रतियोगिता भी बढ़ने वाली है। एसडबल्यूए और इस इंडस्ट्री को मेरी शुभकामनाएँ।`

नेटफ्लिक्स की चर्चित ओरिजिनल फिल्म 'गिल्टी' की निर्देशक और ज्यूरी मेम्बर रुचि नारायण ने कहा है की,`एक लेखक के लिए, उसके काम और इरादे को किसी शो में देखना एक मीठा और कड़वा, सफल होना या चूक जाने जैसा मिला जुला अनुभव होता है! इसलिए यह एक बहुत बड़ा सम्मान और स्वीकृति है जब एक लेखक के काम को दूसरे लेखकों द्वारा सराहा जाये। तो इसके लिए एक ऐसा भरोसेमंद समुदाय है जो आपके शिल्प का सही मूल्यांकन कर सकता है की आपके दिलं में क्या है। एसडबल्यूए अवार्ड्स देकर, अपना लेखक समुदाय हमारे काम को और इसके जोखिमों को सम्मानित कर रहा है, जो ओटीटी आंदोलन को बल दे रहा है.....जो इस दुनिया की देखने की आदतों को बदल रहा है और इसके लिए लिए ऊंचे मानदंड स्थापित कर रहा है।`

वेब सिरीज़- ओरिजनल ड्रामा की एक अन्य ज्यूरी मेम्बर स्वेक्षा भगत का मानना है की,`एसडबल्यूए अवॉर्ड्स नए और अनुभवी दोनों श्रेणीके लेखकोंको एक - दुसरेको जानने, समझने का मौका देंगे। ये इकलौता ऐसा मंच है जहाँ स्टार्स और प्रोडक्शन की चकाचौंध को किनारे रख, सफ़ेद कागज़ पर छपे उन काले अक्षरोंको सम्मानित किया जाताहै, जिससे एंटरटेनमेंट जगत की ये दुनिया इतनी रंगीन बनती है। मुझे उम्मीद है कि आनेवाले समय में ये अवार्ड्स हर स्क्रीनप्ले राइटर की चाहत बनकर उन्हें और अच्छा काम करने की प्रेरणा देंगे।`

वेब एडाप्टेशन की ज्यूरी मेम्बर केतकी पंडित इस अवार्ड को लेकर बहुत उत्साहित हैं। अवार्ड के बारे में अपने विचार व्यक्त करते हुये उन्होने कहा है की, `पहली बार दिये जा रहे एसडबल्यूए अवार्ड्स, लेखकों और गीतकारों का लाल कालीन बिछाकर स्वागत करने जा रहा है, जो अपने शब्दों से सुनहरे पर्दे पर जादू बिखेरने के बावजूद भी काफी लंबे समय से गुमनामी की छाया में छोड़ दिये गए थे। इस ऐतिहासिक कार्यक्रम का हिस्सा होने पर मैं बहुत सम्मानित और कृतज्ञ हूँ! आखिरकार, फिल्म इंडस्ट्री के ध्रुव तारे की तरह लेखक अपने सबसे योग्यतम स्थान को हासिल करने जा रहा है। सही दिशा में एक बहुत बड़ी शुरुआत!`

अनुया जकतदार ने ज्यूरी मेम्बर के रूप में अपने अनुभवों को बताते हुये कहा है की,`इस निर्णायक मण्डल का हिस्सा होना वाकई एक बड़ा अवसर है। इसने न सिर्फ मुझे बल्कि निर्णायक मण्डल के अन्य दो सदस्यों को भी नए साहित्य से परिचित करवाया। उनके साथ निर्णय करना वास्तव में बहुत अच्छा अनुभव रहा। #महिलाशक्ति

वेब एडाप्टेशन श्रेणी की ज्यूरी मेम्बर और 'फैशन' और 'हिरोइन' जैसी फिल्मों की लेखक अनुराधा तिवारी के विचार हैं की,`एसडबल्यूए अवार्ड्स ज़िंदगी का ऐसा महत्वपूर्ण पल है जहां आपके अपने काम को उचित सम्मान और प्रतिफल मिलता है। यह बहुत गर्व का विषय है जब आप पर अपने समकालीन लोगों के काम को बिना किसी भेदभाव के निर्णय करने का भरोसा हो, और इस भरोसे के लिए मैं पुरस्कार समिति को धन्यवाद देती हूँ। निर्णय करने के लिए यह एक विशिष्ट श्रेणी थी क्योंकि इसमे पटकथा लेखन के साथ साथ साहित्य भी शामिल है। इस काम के दौरान मैंने न सिर्फ इस शिल्प के बारे मे सीखा बल्कि मैंने दोबारा पढ़ना शुरू किया! जो विजेताओं को मिलने वाले जैसा रोमांचकारी और नया अनुभव है। एसडबल्यूए को इसके लिए बहुत धन्यवाद और आने वाले वक़्त में और नयी शुरूआत के लिए शुभकामनाएँ।`

एसडबल्यूए के बारे में:

एसडबल्यूए यानि की स्क्रीनराइटर्स असोसिएशन (पूर्व में:फिल्म रायटर्स असोसिएशन) एक भारतीय फिल्म, टीवी, डिजिटल मिडिया के लिए लिखनेवाले पटकथा लेखकों तथा गीतकारों का व्यावसायिक संगठन है। एसडबल्यूए द्वारा संचालित 24000 से अधिक लेखकों का यह संघटन सदस्यों के काम करने की स्थिति, व्यावसायिक करार से जुड़े हुए अधिकारों, विशेष सुविधाओं के हक़ तथा मुआवजों के अधिकारों संरक्षण करता है। पिछले 60 सालो से भारतीय फिल्म तथा टेलिव्हिजन इंडस्ट्री में लेखकों के अहम रोल को उचित स्वीकृति मिले इसलिए सामूहिक सौदे करने के लिए, क़ानूनी सलाह देने के लिए, विवादों को निपटने के लिए तथा उन्हें प्रशिक्षित करने के लिए कार्यरत है।
Hide Comments
Show Comments