• 2021/hindi-22915.jpg
  • सैर कर दुनिया की ग़ाफ़िल ज़िंदगानी फिर कहाँ;
    ज़िंदगी गर कुछ रही तो ये जवानी फिर कहाँ!
  • दो अंगुल की है सड़क,
    उस पर रेल चले बेधड़क,
    लोगों के हैं काम आती,
    समय पड़े तो खाक बनाती।
    माचिस!
  • मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है। जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है। ~ Bhagwad Gita
  • बेटे के पेट में ब्लेड! रात के समय एक डॉक्टर अपने घर पर आराम कर रहा होता है, कि तभी अचानक फोन की घंटी बजती है जैसे ही डॉक्टर फोन उठता है दूसरी... पूरा जोक पढ़ें...