•  

    जब भगवान सारी सब्जियों को उनके गुण और सुगंध बांट रहे थे तब प्याज चुपचाप उदास होकर पीछे खड़ी हो गई। सब चले गए प्याज नहीं गई। वहीँ खड़ी रही। तब विष्णुजी ने पूछा, "क्या हुआ तुम क्यों नही जाती?"

    तब प्याज रोते हुए बोली, "आपने सबको सुगंध और सुंदरता जैसे गुण दिए पर मुझे बदबू दी। जो मुझे खाएगा उसका मुँह बदबू देगा। मेरे साथ ही यह व्यवहार क्यों?"

    तब भगवान को प्याज पर दया आ गई। उन्होने कहा, "मैं तुम्हे अपने शुभ चिन्ह देता हूँ। यदि तुम्हें खड़ा काटा जायेगा तो तुम्हारा रूप शंखाकार होगा और यदि आड़ा काटा गया तो चक्र का रूप होगा। यही नहीं सारी सब्जियों को तुम्हारा साथ लेना होगा, तभी वे स्वादिष्ट लगेंगी और अंत में तुम्हे काटने पर लोगों के वैसे ही आंसू निकलेंगे जैसे आज तुम्हारे निकले हैं। जब जब धरती पर मंहगाई बढ़ेगी तुम सबको रुलाओगी।

    दोस्तों इसीलिए प्याज आज इतना रुला रही है उसे वरदान जो प्राप्त है।

    परम ज्ञानी गुरु बाबा बकवास नंद के प्रवचनों से साभार!
  • पप्पू की मुसीबत! गर्लफ्रेंड: आई लव यू बेबी।
    पप्पू धीरे से बोला, `मैं भी तुमसे प्यार करता हूँ।`
    गर्लफ्रेंड: ऐसा क्यों?
    पप्पू: बस थोड़ा सा...
  • बढ़ती प्याज की कीमतों के हिसाब फिल्मों के डायलॉग्स! बढ़ती प्याज की कीमतों के हिसाब से जल्दी ही फिल्मों के डायलॉग्स इस प्रकार के होंगे।

    मेरे करण अर्जुन आयेंगे...
  • तीन इच्छाएं! एक महिला का पति बहुत शराबी था वह उसे बहुत प्रताड़ित करता था और उसके किसी दूसरी औरत के साथ अवैध सम्बन्ध भी थे वह महिला...
  • परीक्षा के दौरान! अध्यापिका पप्पू से: तुम इतने परेशान क्यों हो?
    पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
    अध्यापिका: क्या हुआ...
  • सपने का मतलब! रात में एक चोर घर में घुसा। कमरे का दरवाजा खोला तो बरामदे पर एक बूढ़ी औरत सो रही थी। खटपट से उसकी आंख खुल गई। चोर ने घबरा कर देखा तो...