•  

    एक सन्यासी घूमते-फिरते एक दुकान पर आये! दुकान में अनेक छोटे-बड़े डिब्बे थे!

    सन्यासी ने एक डिब्बे की ओर इशारा करते हुए दुकानदार" से पूछा, "इसमें क्या है?"

    दुकानदार ने कहा, "इसमें नमक है।"

    सन्यासी ने फिर पूछा, "इसके* पास वाले में क्या है?"

    दुकानदार ने कहा, "इसमें हल्दी है।"

    इसी प्रकार सन्यासी पूछ्ते गए और दुकानदार बतलाता रहा।

    अंत मे पीछे रखे डिब्बे का नंबर आया, सन्यासी ने पूछा, "उस अंतिम डिब्बे में क्या है?"

    दुकानदार बोला, "उसमें श्रीकृष्ण हैं।"

    सन्यासी ने हैरान होते हुये पूछा, "श्रीकृष्ण !! भला यह "श्रीकृष्ण" किस वस्तु का नाम है भाई? मैंने तो इस नाम के किसी सामान के बारे में कभी नहीं सुना!"

    दुकानदार सन्यासी के भोलेपन पर हंस कर बोला, "महात्मन! और डिब्बों मे तो भिन्न-भिन्न वस्तुएं हैं | पर यह डिब्बा खाली है| हम खाली को खाली नहीं कहकर श्रीकृष्ण कहते हैं!"

    संन्यासी की आंखें खुली की खुली रह गई ! जिस बात के लिये मैं दर-दर भटक रहा था, वो बात मुझे आज एक व्यापारी से समझ आ रही है। वो सन्यासी उस छोटे से किराने के दुकानदार के चरणों में गिर पड़ा, ओह, तो खाली में श्रीकृष्ण रहता है !

    सत्य है! भरे हुए में श्रीकृष्ण को स्थान कहाँ ?

    काम, क्रोध, लोभ, मोह, लालच, अभिमान, ईर्ष्या, द्वेष और भली-बुरी, सुख-दुख की बातों से जब दिल-दिमाग भरा रहेगा तो उसमें ईश्वर का वास कैसे होगा?
  • ज्यादा सोचना भी ठीक नहीं! एक बार एक आदमी दौड़ा-दौड़ा डॉक्टर के क्लिनिक में आया और उससे बोला डॉक्टर, "साहब मेरी जान बचा लीजिये।"
    डॉक्टर उस आदमी को हौंसला देते हुए बोला, "घबराओ नहीं शान्ति से मुझे बताओ की बात क्या है?"...
  • मोहल्लेदारी आज सुबह मोहल्ले के गोयल साहब घर पर आए। गर्मी, महंगाई और रिश्तेदारों के बारे में दो घंटे बातचीत की। मैने चाय का पूछा तो उन्होंने नींबू पानी पीने की ख्वाहिश की...
  • दुनिया गोल है! बॉस (सेक्रेटरी से): तुम और मैं एक हफ्ते के लिए लंदन जा रहे हैं। ज़रूरी मीटिंग है।
    सेक्रेटरी (पति से): ऑफिस के काम से मुझे बॉस के साथ एक हफ्ते के लिए लंदन जाना है...
  • वकील से शादी! एक लड़की ने सिर्फ एक वकील से शादी करने में रूचि दिखाई। जब उस लड़की से पूछा गया कि तुम एक वकील पति ही क्यों चाहती हो तो उसने ये उत्तर दिए:...
  • बैंक के कड़े नियम! चेक पे रकम को शब्दों में और अंकों में लिखना क्यों ज़रूरी है!
    बैंक के नियम के अनुसार शाम के 4:30 बजे बैंक बंद हो ही रहा था कि ब्रांच मैनेजर के पास बेहद दिलकश...