• प्सिहले जन्म का नाता!

    एक बच्चा अपने पापा के साथ बाईक पर जा रहा था। चाकलेट की दुकान पर पापा ने बाईक रोकी और बेटे के लिये चाकलेट लाने गये। उसे वहीं खड़े रहने को कहा... जब पापा लौट कर आये तो देखा बेटा वहाँ नहीं था।

    उन्होंने नजर दौड़ाई तो देखा कि बेटा एक बिल्डिंग को बहुत गौर से देख रहा था! पापा करीब पहुँचे तो उनको देखकर बेटा बोला, "मैं इस बिल्डिंग को जानता हूँ पापा... इससे मेरा जरूर पिछले जन्म का नाता है... इसी से मैं यहां खींचता चला आया हूँ!"

    पापा ने एक चपत लगाई और कहा, "ये तेरा स्कूल है जो पिछले साल से बंद है!"
  • वैक्सीन लगवाने के नियम

    कोरोना वैक्सीन लगवाने गया तो वहाँ ये बोर्ड लगा हुआ था!

    महत्वपूर्ण सूचना:
    1. वैक्सीन लेते समय फोटो खींचने के लिए कैमरा, मोबाइल या अन्य उपकरण के साथ अपना साथी या रिश्तेदार साथ में लायें!
    2. आधी बांह वाली कमीज या टीशर्ट पहन के आयें जिससे कि कमीज आधा नहीं खोलनी पड़ेगी और फोटो में आप काफी शानदार दिखेंगे!
    3. वैक्सीन लगते ही जितना जल्दी संभव हो तुरंत वो फोटो Facebook, WhatsApp या अन्य जगह पर अपलोड कर दें! वर्ना यह वैक्सीन ज्यादा कारगर नहीं रहेगी!
    4. वैक्सीन वाले फोटो के साथ कम से कम अगले 24 घंटे तक कोई अन्य फालतू की पोस्ट न करें जिससे कि आपकी वैक्सीन वाली फोटो पर से ध्यान न बंटे!
  • कोरोना से मुलाकात!

    आज रात 11 बजे कोरोना से,मेरी मुलाकात हो गई !

    चलते-चलते 6 फीट दूर से, बात हो गयी !

    मैंने कहा:- कोरोना ! बड़ा ऊधम. मचाए हो !.

    चुनावी रैली छोड़कर, क्यों मेलों,बाजारों ,शादी,समारोहों में आए हो !

    क्या तुमको भी लगता है़ डर ! सरकारी आयोजनों से ?

    या लाए गए हो तुम भी, किन्हीं खास प्रयोजनों से !

    अब मैं तुमसे, तुम्हारा ही इलाज जानना चाहता हूँ !

    कल या परसों नहीं ! अभी और आज ही चाहता हूँ !!

    ये सुनकर, कोरोना रुआंसा होकर बोला !

    कवि महोदय ! तुम सब की पीड़ा गाते हो !

    मैं भी तो पीडित हूँ ? क्यों नहीं मेरी व्यथा सुनाते हो !

    मैं तो पहले, आया था ! लेकिन अब बुलाया गया हूँ !

    सत्ता के सरदारों ने, मुझको हथियार बनाया है़ !

    उनकी मर्जी से ही अब मैं, अंदर-बाहर जाता हूँ !

    फिर भी जाते-जाते, तुम्हें मैं अपना इलाज बताता हूँ !

    जहाँ-जहाँ हिन्दुस्तान में, चुनाव कराया जाएगा !

    वहाँ कोरोना का एक भी मरीज नहीं पाया जाएगा !

    देश की भोली जनता में, समझ का अभाव है़ !

    सुनो कविवर ! मेरा इलाज, सिर्फ और सिर्फ, चुनाव है़ !!
  • दोस्ती की परिभाषा!

    लोगों के बहकावे में आकर कछुए और खरगोश में फिर से पाँच मील की दौड़ लग गई!

    तीन मील की दूरी पर जा कर खरगोश ने देखा कि कछुआ बहुत दूर है और उसने सामने के ठेके से एक बोतल ली और पीना शुरू कर दिया!

    दो या तीन पैग पीने के बाद... उसने सामने से कछुए को आता हुआ देखा और बोला, "ले भाई, आज तू भी ले!"

    कछुआ भी बैठ गया और पीते-पीते बोतल खत्म हो गई!

    कछुए ने कहा: तुम मेरे इतने अच्छे दोस्त हो, और मैं तुम्हारे साथ दौड़ने की होड़ के लिए लोगों की बातों में आ गया, तुम्हारे साथ क्या हार क्या जीत? चल भाई एक हॉफ और मँगा ले!"

    फिर दोनों खुशी-खुशी घर चले गए!

    कथासार:अपने दोस्तों के साथ आख़िर किस बात की रेस! हर समय हार-जीत के पीछे ही भागते न रहें, साथ बैठिये, दो पेग लीजिए और देखिए कि ये ज़िन्दगी सच में कितनी ज़्यादा खूबसूरत है!