• वक़्त अभी भी बदला नहीं!

    एक आदमी ने हॉस्टल में रहने वाले पप्पू के कमरे का दरवाज़ा खटखटाया। थोड़ी देर बाद पप्पू ने दरवाजा खोला।

    आदमी: क्या मैं अंदर आ सकता हूं? मैं सन 82 में इसी कॉलेज में पढ़ता था और इसी कमरे में रहता था।

    पप्पू: हां, हां जरूर।

    आदमी अपने कॉलेज टाइम को याद करते हुए कहने लगा, "आह, वही पुराना कमरा, वही पुराना फर्नीचर और वही पुरानी अलमारी।"

    पप्पू उसे अलमारी की तरफ बढ़ने से रोकने ही वाला था कि उस आदमी ने अलमारी का दरवाजा खोल दिया।

    अलमारी के अंदर पप्पू की गर्लफ्रेंड छिपी हुई थी।

    पप्पू हड़बड़ा कर बोला, "सर ये मेरी कजिन (Cousin) है।

    इस पर ठण्डी सांस भरते हुए वह आदमी बोला, "आह, वही पुराना बहाना।"
  • गधे की औलाद!

    एक बार पप्पू एक अनजान नंबर से संता को कॉल करता।

    संता: हेल्लो।

    पप्पू: उल्लो, पुल्लो, कुल्लो।

    संता: कौन है बे?

    पप्पू: एक इंसान।

    संता: वो तो पता है, नाम बोल?

    पप्पू: मैं एक गंदा बच्चा हूँ।

    संता: तेरी तो ऐसी की तैसी, कहाँ रहता है तू?

    पप्पू: पृथ्वी पर।

    संता: वो तो पता है, फोन क्यों किया?

    पप्पू: तुझे परेशान करने के लिए।

    संता: रुक कम्बखत, अपने बाप को बुला, गधे की औलाद।

    पप्पू: हेल्लो पापा, मैं पप्पू।
  • मच्छर को कैसे मारें?

    परीक्षा में पप्पू के प्रश्न पत्र में एक सवाल था "मच्छर को कैसे मारें?" सवाल 5 नंबर का था इसलिए पप्पू ने उसका कुछ ऐसा जवाब लिखा:

    चीनी और लाल मिर्च का मिश्रण बना कर मच्छर को दें। मिश्रण खाते ही वो पानी की तलाश में निकलेगा। जैसे ही वो पानी के टैंक के पास जाए उसे धक्का दे दो। वो भीग जाएगा और खुद को सुखाने के लिए आग के पास जाएगा। उसी वक्त आप आग में बम फ़ेंक दो। वो बुरी तरह ज़ख़्मी हो कर अस्पताल में दाखिल हो जाएगा। आप वहां जाकर उसका आक्सीजन का मास्क उतार दें। इस तरह मच्छर मर जाएगा!
  • अब करो मदद!

    रात 2 बजे बंता के घर की घंटी बजी।
    उसने गहरी नींद से उठ कर दरवाज़ा खोला। दरवाज़े पर पप्पू खड़ा था।

    पप्पू ने बंता से गुज़ारिश की, "प्लीज़, धक्का लगा दोगे क्या?"

    बंता नींद में था तो बोला, "नहीं।"

    बंता ने दरवाज़ा बंद किया और वापिस अंदर आ गया। फिर उसे यह सोचकर बुरा लगा कि अगर इतनी रात को कोई उसकी मदद करने से इनकार कर देता तो उसे कैसा लगता। यह सोचकर वह वापस गया और दरवाज़ा खोला लेकिन उसे पप्पू नहीं दिखा, पर फिर भी उसने आवाज़ लगाई, "कहां गए तुम? धक्का चाहिए क्या?"

    पप्पू ने जवाब दिया: हाँ।

    बंता: पर तुम हो कहाँ?
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    पप्पू: यहां गार्डन में झूले पर!