• हज़ारों मीलों लम्बी यात्राएं भी एक कदम से ही शुरू होती हैं।
    हज़ारों मीलों लम्बी यात्राएं भी एक कदम से ही शुरू होती हैं।
    ~ Confucius
  • रत्न बिना रगड़े कभी नहीं चमकता है, वैसे ही आदमी का व्यक्तित्व बिना संघर्ष के नहीं निखरता।
    रत्न बिना रगड़े कभी नहीं चमकता है, वैसे ही आदमी का व्यक्तित्व बिना संघर्ष के नहीं निखरता।
    ~ Confucius
  • जब क्रोध आये तो उसके परिणाम पर विचार करो।
    जब क्रोध आये तो उसके परिणाम पर विचार करो।
    ~ Confucius
  • यदि मैं दो अन्य लोगों के साथ चल रहा हूँ, तो वो दोनों मेरे गुरु की तरह काम करेंगे। मैं एक की अच्छी बातें पकडूँगा और उनका अनुकरण करूँगा, और दूसरे की बुरी बातें पकडूँगा और उन्हें अपने अन्दर सही करूँगा।
    यदि मैं दो अन्य लोगों के साथ चल रहा हूँ, तो वो दोनों मेरे गुरु की तरह काम करेंगे। मैं एक की अच्छी बातें पकडूँगा और उनका अनुकरण करूँगा, और दूसरे की बुरी बातें पकडूँगा और उन्हें अपने अन्दर सही करूँगा।
    ~ Confucius
  • सफलता पहले से की गयी तयारी पर निर्भर है; और बिना ऐसी तयारी के असफलता निश्चित है!
    सफलता पहले से की गयी तयारी पर निर्भर है; और बिना ऐसी तयारी के असफलता निश्चित है!
    ~ Confucius
  • जो आप खुद नहीं पसंद करते उसे दूसरों पर मत थोपिए!
    जो आप खुद नहीं पसंद करते उसे दूसरों पर मत थोपिए!
    ~ Confucius
  • बुराई को देखना और सुनना ही बुराई की शुरुआत है।
    बुराई को देखना और सुनना ही बुराई की शुरुआत है।
    ~ Confucius
  • उस काम का चयन कीजिये जिसे आप पसंद करते हों, फिर आप पूरी ज़िन्दगी एक दिन भी काम नहीं करंगे!
    उस काम का चयन कीजिये जिसे आप पसंद करते हों, फिर आप पूरी ज़िन्दगी एक दिन भी काम नहीं करंगे!
    ~ Confucius
  • किसी कमी के साथ एक हीरा बिना किसी कमी के पत्थर से बेहतर है।
    किसी कमी के साथ एक हीरा बिना किसी कमी के पत्थर से बेहतर है।
    ~ Confucius
  • जो आप खुद नहीं पसंद करते उसे दूसरों पर मत थोपिए।
    जो आप खुद नहीं पसंद करते उसे दूसरों पर मत थोपिए।
    ~ Confucius