• मैं न्यूज़ चैनलों के पक्षपाती व्यवहार से बहुत निराश हूँ!</br>
रिहाना ने ट्वीट किया तो उसके गाने तो दिखा रहे हैं लेकिन मिया ख़लीफ़ा की कोई भी फिल्म अभी तक नहीं दिखाई!
    मैं न्यूज़ चैनलों के पक्षपाती व्यवहार से बहुत निराश हूँ!
    रिहाना ने ट्वीट किया तो उसके गाने तो दिखा रहे हैं लेकिन मिया ख़लीफ़ा की कोई भी फिल्म अभी तक नहीं दिखाई!
  • कुछ लोग दिखावे के लिए अच्छे बनते हैं लेकिन ये भूल जाते हैं कि</br> 
'मेरा पीछा मत करो से लेकर बाबू... पीछे से मत करो' में ही जिंदगी के असली मजे हैं!</br>
बाकी सब मोह माया है!
    कुछ लोग दिखावे के लिए अच्छे बनते हैं लेकिन ये भूल जाते हैं कि
    'मेरा पीछा मत करो से लेकर बाबू... पीछे से मत करो' में ही जिंदगी के असली मजे हैं!
    बाकी सब मोह माया है!
  • भाभी: ऐ जी सुबह अपने मियाँ ख़लीफ़ा पर ट्वीट किये थे, आखिर कौन है ये मियाँ ख़लीफ़ा?</br>
मिश्रा जी: तू रहने दे पगली, क्या करोगी जान कर, वो 'वीर्य रस' की बहुत बड़ी कवित्री है!
    भाभी: ऐ जी सुबह अपने मियाँ ख़लीफ़ा पर ट्वीट किये थे, आखिर कौन है ये मियाँ ख़लीफ़ा?
    मिश्रा जी: तू रहने दे पगली, क्या करोगी जान कर, वो 'वीर्य रस' की बहुत बड़ी कवित्री है!
  • बेटा: पापा हम जब दुबई जाएंगे तो मियां खलीफा पर चढ़ेंगे!</br>
पापा: अबे उल्लू के पट्ठे, वह मियां खलीफा नहीं बुर्ज खलीफा है!
    बेटा: पापा हम जब दुबई जाएंगे तो मियां खलीफा पर चढ़ेंगे!
    पापा: अबे उल्लू के पट्ठे, वह मियां खलीफा नहीं बुर्ज खलीफा है!
  • बहला फुसला कर ली जाने वाली चीजों में कर्ज आज भी दूसरे नंबर पर है!<br/>
पहले नंबर पर वही है जो आप समझ रहे हैं!
    बहला फुसला कर ली जाने वाली चीजों में कर्ज आज भी दूसरे नंबर पर है!
    पहले नंबर पर वही है जो आप समझ रहे हैं!
  • पत्नी: मुझे तलाक चाहिए!<br/>
पति: ठंड में तो नहीं दूँगा!<br/>
पत्नी: तो फिर ठंड में, मैं भी नही दूंगी!
    पत्नी: मुझे तलाक चाहिए!
    पति: ठंड में तो नहीं दूँगा!
    पत्नी: तो फिर ठंड में, मैं भी नही दूंगी!
  • सुबह उठता हूँ तो ऐसा लगता है कि माँ चोद दूँ दुनिया की और रात होते-होते ऐसा लगता है कि माँ चुदाये दुनिया!<br/>
बस ये दोनों अनुभूतियों के बीच के समय में जो अपनी गाँड मरती है उसी का नाम, ज़िंदगी है!
    सुबह उठता हूँ तो ऐसा लगता है कि माँ चोद दूँ दुनिया की और रात होते-होते ऐसा लगता है कि माँ चुदाये दुनिया!
    बस ये दोनों अनुभूतियों के बीच के समय में जो अपनी गाँड मरती है उसी का नाम, ज़िंदगी है!
  • बचपन में भूतों के सपने,<br/>
जवानी में चूतों के सपने,<br/>
बुढ़ापे में भूतों के सपने,<br/>
दिमाग की माँ-बहन एक कर के रख देते हैं!
    बचपन में भूतों के सपने,
    जवानी में चूतों के सपने,
    बुढ़ापे में भूतों के सपने,
    दिमाग की माँ-बहन एक कर के रख देते हैं!
  • अगर इतनी ठंड में भी आपका शोना मना कर रहा है तो<br/>
समझ लीजिये कि उसके हीटर को कोई और ताप रहा है!
    अगर इतनी ठंड में भी आपका शोना मना कर रहा है तो
    समझ लीजिये कि उसके हीटर को कोई और ताप रहा है!
  • गब्बर: छ गोली और आदमी  तीन, बहुत नाइंसाफी है!<br/>
सांभा: सरदार चूतिया मत बनाओ! कोई नाइंसाफी नहीं है! 3 आदमियों की, 6 ही गोलियां होती हैं!
    गब्बर: छ गोली और आदमी तीन, बहुत नाइंसाफी है!
    सांभा: सरदार चूतिया मत बनाओ! कोई नाइंसाफी नहीं है! 3 आदमियों की, 6 ही गोलियां होती हैं!