• जीवन में किसी का 'भला' करोगे,
    तो 'लाभ' होगा क्योंकि 'भला' का उल्टा 'लाभ' होता है।
    और जीवन में किसी पर 'दया' करोगे,
    तो वो 'याद' करेगा क्योंकि 'दया' का उल्टा 'याद' होता है।
  • जब छोटे थे तो ज़ोर-ज़ोर से रोते थे अपनी पसंद को पाने के लिए;
    अब बड़े हो गए हैं तो चुपके से रोते है अपनी पसंद छुपाने के लिए।
  • मैंने ज़िंदगी से पुछा कि तू इतनी कठिन क्यों है?
    ज़िंदगी ने हंसकर कहा, "दुनियां आसान चीज़ों की कद्र नहीं करती"।
  • वक़्त बदलता है ज़िंदगी के साथ;
    ज़िंदगी बदलती है वक़्त के साथ;
    वक़्त नहीं बदलता है अपनों के साथ;
    बस अपने बदल जाते हैं वक़्त के साथ।
  • ज़िंदगी एक रात है;
    जिसमें ना जाने कितने ख्वाब हैं;
    जो मिल गया वो अपना है;
    जो टूट गया वो सपना है।
  • कोई नहीं होता हमेशा के लिए किसी का;<br/>
लिखा है साथ थोड़ा-थोड़ा सभी का;<br/>
मत बनाओ किसी को अपने जीने की वजह;<br/>
क्योंकि जीना है अकेले, यह असूल है ज़िंदगी का।
    कोई नहीं होता हमेशा के लिए किसी का;
    लिखा है साथ थोड़ा-थोड़ा सभी का;
    मत बनाओ किसी को अपने जीने की वजह;
    क्योंकि जीना है अकेले, यह असूल है ज़िंदगी का।
  • हर सपना कुछ पाने से पूरा नहीं होता;<br/>
कोई किसी के बिन अधूरा नहीं होता;<br/>
जो चाँद रौशन करता है रात भर सब को;<br/>
हर रात वो भी तो पूरा नहीं होता।
    हर सपना कुछ पाने से पूरा नहीं होता;
    कोई किसी के बिन अधूरा नहीं होता;
    जो चाँद रौशन करता है रात भर सब को;
    हर रात वो भी तो पूरा नहीं होता।
  • हँसना ज़िंदगी है;<br/>
हँस कर गम भुलाना ज़िंदगी है;<br/>
जीत कर हँसे तो क्या हँसे;<br/>
हार कर ख़ुशियाँ मनाना ज़िंदगी है।
    हँसना ज़िंदगी है;
    हँस कर गम भुलाना ज़िंदगी है;
    जीत कर हँसे तो क्या हँसे;
    हार कर ख़ुशियाँ मनाना ज़िंदगी है।
  • जीवन में सबसे कठिन दौर यह नहीं है जब कोई तुम्हें समझता नहीं है;
    बल्कि;
    यह तब होता है जब तुम अपने आप को नहीं समझ पाते।
  • मरता नहीं कोई किसी के बगैर ये हकीकत है जिंदगी की; <br/>
लेकिन<br/>
सिर्फ साँसें लेने को 'जीना' तो नहीं कहते।
    मरता नहीं कोई किसी के बगैर ये हकीकत है जिंदगी की;
    लेकिन
    सिर्फ साँसें लेने को 'जीना' तो नहीं कहते।