• बच्चों को खिलाकर जब सुला देती है माँ,<br/>
तब जाकर थोडा सा सुकून पाती है माँ ;<br/><br/>

प्यार कहते हैं किसे और ममता क्या चीज़ है,<br/>
कोई उन बच्चों से पूछे जिनकी गुज़र जाती है माँ;<br/><br/>

चाहे हम खुशियों में माँ को भूल जाएँ ,<br/>
जब मुसीबत सर पर आती है तो याद आती है माँ!<br/>
आप सब को मदर्स डे की शुभकामनायें!
    बच्चों को खिलाकर जब सुला देती है माँ,
    तब जाकर थोडा सा सुकून पाती है माँ ;

    प्यार कहते हैं किसे और ममता क्या चीज़ है,
    कोई उन बच्चों से पूछे जिनकी गुज़र जाती है माँ;

    चाहे हम खुशियों में माँ को भूल जाएँ ,
    जब मुसीबत सर पर आती है तो याद आती है माँ!
    आप सब को मदर्स डे की शुभकामनायें!
  • कभी ज़मीन दिखाई दे, कभी आसमान दिखाई दे;<br/>
माँ साथ हो तो हमेशा जन्नत दिखाई दे!<br/>
मदर्स डे कि शुभ कामनाएं!
    कभी ज़मीन दिखाई दे, कभी आसमान दिखाई दे;
    माँ साथ हो तो हमेशा जन्नत दिखाई दे!
    मदर्स डे कि शुभ कामनाएं!
  • हमारे कुछ गुनाहों की सज़ा भी साथ चलती है,<br/>
हम अब तन्हा नहीं चलते दवा भी साथ चलती है;<br/>
अभी ज़िन्दा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा,<br/>
मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है!<br/>
मदर्स डे की शुभ कामनायें!
    हमारे कुछ गुनाहों की सज़ा भी साथ चलती है,
    हम अब तन्हा नहीं चलते दवा भी साथ चलती है;
    अभी ज़िन्दा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा,
    मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है!
    मदर्स डे की शुभ कामनायें!
  • हजारो फूल चाहिए एक माला बनाने के लिए,<br/>
हजारों दीपक चाहिए एक आरती सजाने के लिए,<br/>
हजारों बून्द चाहिए समुद्र बनाने के लिए,<br/>
पर `माँ `अकेली ही काफी है,<br/>
बच्चो की जिन्दगी को स्वर्ग बनाने के लिए!<br/>
मदर डे की शुभ कामनायें!
    हजारो फूल चाहिए एक माला बनाने के लिए,
    हजारों दीपक चाहिए एक आरती सजाने के लिए,
    हजारों बून्द चाहिए समुद्र बनाने के लिए,
    पर `माँ `अकेली ही काफी है,
    बच्चो की जिन्दगी को स्वर्ग बनाने के लिए!
    मदर डे की शुभ कामनायें!
  • हमारे कुछ गुनाहों की सज़ा भी साथ चलती है,<br/>
हम अब तन्हा नहीं चलते दवा भी साथ चलती है,<br/>
अभी ज़िन्दा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा,<br/>
मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है!<br/>
मदर डे की शुभ कामनायें!
    हमारे कुछ गुनाहों की सज़ा भी साथ चलती है,
    हम अब तन्हा नहीं चलते दवा भी साथ चलती है,
    अभी ज़िन्दा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा,
    मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है!
    मदर डे की शुभ कामनायें!
  • ये जो सख्त रास्तों पे भी आसान सफ़र लगता है,<br/>
ये मुझ को माँ की दुआओ का असर लगता है,<br/>
एक मुद्दत हुई मेरी माँ नही सोई तबिश,<br/>
मैंने एक बार कहा था कि मुझे डर लगता है!<br/>
मदर डे की शुभ कामनायें!
    ये जो सख्त रास्तों पे भी आसान सफ़र लगता है,
    ये मुझ को माँ की दुआओ का असर लगता है,
    एक मुद्दत हुई मेरी माँ नही सोई तबिश,
    मैंने एक बार कहा था कि मुझे डर लगता है!
    मदर डे की शुभ कामनायें!
  • जब जब काग़ज़ पर लिखा, मैंने माँ का नाम;<br/>
क़लम अदब से बोल उठी, हो गये चारों धाम।<br/>
मदर डे की शुभ कामनायें!
    जब जब काग़ज़ पर लिखा, मैंने माँ का नाम;
    क़लम अदब से बोल उठी, हो गये चारों धाम।
    मदर डे की शुभ कामनायें!
  • माँग लूँ यह मन्नत कि फिर यही जहान मिले;<br/>
फिर वही गोद और फिर वही माँ मिले।<br/>
मदर डे मुबारक!
    माँग लूँ यह मन्नत कि फिर यही जहान मिले;
    फिर वही गोद और फिर वही माँ मिले।
    मदर डे मुबारक!
  • शर्त लगी थी जब पूरी दुनिया को एक ही शब्द में लिखने की, तो वो पुरी किताबें ढूंढ रहे थे और मैंने `माँ` लिख दिया।
    शर्त लगी थी जब पूरी दुनिया को एक ही शब्द में लिखने की, तो वो पुरी किताबें ढूंढ रहे थे और मैंने "माँ" लिख दिया।
  • मंजिल दूर और सफ़र बहुत है,<br/>
छोटी सी जिन्दगी की फिकर बहुत है,<br/>
मार डालती ये दुनिया कब की हमें,<br/>
लेकिन `माँ` की दुआओं में असर बहुत है।<br/>
शुक्रिया माँ, मदर डे की शुभ कामनायें!
    मंजिल दूर और सफ़र बहुत है,
    छोटी सी जिन्दगी की फिकर बहुत है,
    मार डालती ये दुनिया कब की हमें,
    लेकिन "माँ" की दुआओं में असर बहुत है।
    शुक्रिया माँ, मदर डे की शुभ कामनायें!