• ईश्वर का लाख लाख शुक्र है कि फेसबुक, व्हाट्सएप - चाइनीज़ नहीं है;<br/>
वर्ना हम सब ऐसे बिछड़ जाते जैसे कुंभ के मेले में निरूपा राय के बच्चे!
    ईश्वर का लाख लाख शुक्र है कि फेसबुक, व्हाट्सएप - चाइनीज़ नहीं है;
    वर्ना हम सब ऐसे बिछड़ जाते जैसे कुंभ के मेले में निरूपा राय के बच्चे!
  • नवरात्रि के कारण WhatsApp भी इतना भक्तिमय हुआ पड़ा है कि...<br/>
मन करता है मैसेज भी चप्पल उतार कर पढूं!
    नवरात्रि के कारण WhatsApp भी इतना भक्तिमय हुआ पड़ा है कि...
    मन करता है मैसेज भी चप्पल उतार कर पढूं!
  • ये WhatsApp बनाने वाला जरूर ही चुगलखोर रहा होगा!<br/>
वरना क्या जरुरत है ये बताने कि कौन-कौन Online है!
    ये WhatsApp बनाने वाला जरूर ही चुगलखोर रहा होगा!
    वरना क्या जरुरत है ये बताने कि कौन-कौन Online है!
  • सोच रहा था कि व्हाट्सप्प बंद कर दूँ, लेकिन साला उसका ढक्कन नहीं मिल रहा!
    सोच रहा था कि व्हाट्सप्प बंद कर दूँ, लेकिन साला उसका ढक्कन नहीं मिल रहा!
  • व्हाट्सऐप भी मुर्गियों के घोंसलों जैसे ही है!<br/>
बार-बार खोल के देखना पड़ता है कि किसी ने अंडा तो नहीं दिया!
    व्हाट्सऐप भी मुर्गियों के घोंसलों जैसे ही है!
    बार-बार खोल के देखना पड़ता है कि किसी ने अंडा तो नहीं दिया!
  • Whatsapp हो या ज़िन्दगी,<br/>
लोग स्टेटस ही देखते हैं!
    Whatsapp हो या ज़िन्दगी,
    लोग स्टेटस ही देखते हैं!
  • WhatsApp ग्रुप क्या है?
WhatsApp ग्रुप रेल का वो खचाखच भरा डिब्बा है। जहाँ पाद कोई भी मारे सूंघना सभी को पड़ता है।
    WhatsApp ग्रुप क्या है? WhatsApp ग्रुप रेल का वो खचाखच भरा डिब्बा है। जहाँ पाद कोई भी मारे सूंघना सभी को पड़ता है।
  • व्हाट्सएप्प का ऐसा चस्का लग गया है कि...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
दरवाजे की घंटी भी बजती है तो मोबाइल उठा लेता हूँ।
    व्हाट्सएप्प का ऐसा चस्का लग गया है कि...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    दरवाजे की घंटी भी बजती है तो मोबाइल उठा लेता हूँ।
  • WhatsApp का भी ड्राइविंग लाइसेंस होना चाहिए,<br/>
कुछ लोग अँधा-धुंध चला रहे हैं।
    WhatsApp का भी ड्राइविंग लाइसेंस होना चाहिए,
    कुछ लोग अँधा-धुंध चला रहे हैं।
  • सुबह-सुबह WhatsApp पर इतने उच्च विचारों वाले मैसेज आ जाते हैं कि लगता है सारा जग सुधर गया और बस मैं ही बिगड़ा हुआ हूँ।
    सुबह-सुबह WhatsApp पर इतने उच्च विचारों वाले मैसेज आ जाते हैं कि लगता है सारा जग सुधर गया और बस मैं ही बिगड़ा हुआ हूँ।