• 2019/hindi-16149.jpg
  • ज़रा सी ज़िन्दगी:

    ज़रा सी ज़िन्दगी में, व्यवधान बहुत हैं,
    तमाशा देखने को यहां, इंसान बहुत हैं!

    कोई भी नहीं बताता, ठीक रास्ता यहां,
    अजीब से इस शहर में, 'नादान' बहुत हैं!

    न करना भरोसा भूल कर भी किसी पे,
    यहां हर गली में साहब बेईमान बहुत हैं!

    दौड़ते फिरते हैं, न जाने क्या पाने को,
    लगे रहते हैं जुगाड में, परेशान बहुत है!

    खुद ही बनाते हैं हम, पेचीदा ज़िन्दगी को,
    वर्ना तो जीने के नुस्खे, आसान बहुत हैं!
  • मान लीजिये आप बस में 20 सवारियों के साथ सफर कर रहे हैं।
    पहले स्टैंड पे 12 उतरी और 14 सवारियां चढ़ी
    दूसरे स्टैंड पे 15 उतरी और 20 सवारियां चढ़ी
    अगले स्टैंड पे 10 उतरी और 3 सवारियां चढ़ी
    अब यह बताओ कि बस में कितनी सवारियां सफर कर रही हैं?
    21 (20 सवारियां और 1 आप)
  • हमारे जीवन में चाहे कितने भी अन्धकार पल क्यों न आये, बस वो थोड़े दिन ही रुककर चले जायंगे| फिर तो आशा की किरण चमकने ही लगेगी| ~ Orison Swett Marden
  • हाज़िर जवाबी! रात भर पति पत्नी लड़ते लड़ते सो गये। दूसरे दिन सुबह हुई तो पति उठा और लेटी हुई पत्नी के लिए गरमा-गरम दूध लेकर हाजिर हुआ।
    पत्नी: तो इस तरह तुम रात की लड़ाई के लिए माफी माग रहे हो।
    पति: किसने कहा माफी मांग रहा हूं...
    पूरा जोक पढ़ें...