• कवित्री की सुहागरात!

    एक कवित्री की सुहागरात के बाद उसकी सहेली ने जब पूछा कि कैसी रही उसकी सुहागरात तो कवित्री ने अपने अंदाज़ में कुछ यूँ दिया जवाब:

    आये थे वो ज़रा देर से, दिल जला दिया;
    पहले किया उन्होंने दरवाज़ा बंद और फिर दीपक बुझा दिया;
    पहले दबाई चूचियाँ उन्होंने टटोलकर,
    फिर खेलने लगे मेरी चूत से चड्डी खोल कर;
    एक जंग ऐसी छिड़ी पलंग पर,
    फिर तैयार कर गोले वाली तोप अपनी दाग दी उन्होंने मेरी सुरंग पर;
    करते रहे हमला लगातार वो, आने लगा मुझे भी अजीब सा मज़ा;
    इसी मज़े में छाया कुछ ऐसा नशा कि भूल गयी मैं इसके बाद की सजा;
    कुछ यूँ गुज़री सुहागरात मेरी कि पूरी हो गयी मेरे मन की हर एक रज़ा।
  • नसबंदी की दास्ताँ!

    एक गाँव में जिलाधिकारी नसबंदी के महत्व के बारे में भाषण दे रहा था। भाषण के बाद उसने कहा कि अगर कोई सवाल पूछना चाहे तो पूछ सकता है।

    एक ग्राम सेवक खडा हुआ और बोला, "गाँव वाले पूछते हैं कि क्या आपने खुद नसबंदी कराई है?"

    जिलाधिकारी ने कहा, "नहीं मैंने नसबंदी नहीं कराई है।"

    ग्राम सेवक ने पूछा, "क्या कमिश्नर ने नसबंदी कराई है?"

    जिलाधिकारी ने कहा, "जहाँ तक मुझे जानकारी है कमिश्नर ने भी नसबंदी नहीं कराई है।"

    ग्राम सेवक ने फिर पूछा, "क्या मंत्रालय के सचिव ने कराई है?"

    जिलाधिकारी ने कहा, "मैं तुम्हारा सवाल समझ गया... देखो हम सब पढ़े-लिखे लोग हैं। हम बिना नसबंदी कराए ही परिवार नियोजन करते हैं।"

    ग्राम सेवक ने कहा, "तो मादरचोद, हमें भी पढ़ाओ लिखाओ, हमारे लण्ड के पीछे क्यों पड़े हो?"
  • फंस गया बेचारा!

    मगनलाल ने एक कॉल सेंटर में काम करने वाली लड़की रूबी से शादी कर ली। सुहागरात को मगनलाल अपना लौड़ा टाइट कर के आया। उसे उम्मीद थी कि रूबी अपनी चूत सहलाती हुई बैठी होगी। लेकिन रूबी बिल्कुल मरे हुए कुत्ते की तरह बिस्तर पर पसरी हुई थी।

    मगनलाल: मादरचोद, ये क्या हाल बना रखा है? देखती नहीं मैं हूँ मैं।

    रूबी: नमस्कार, बिस्तर पर आपका स्वागत है। अंग्रेज़ी स्टाइल में चुदाई करने के लिए बाईं चूची दबाएँ। हिन्दी स्टाइल में चुदाई करने के लिए दाईं चूची दबाएँ।

    मगनलाल: ये क्या मज़ाक है साली रंडी की औलाद?

    रूबी: चूत संबंधी जानकारी, जैसे टाइट चूत या फटी चूत के बारे में जानने के लिए अंगुली डालें। लौड़ा ठीक से काम नहीं कर रहा है जैसी किसी जानकारी के लिए अपना लंड मुँह में डालें। गाँड़ मारने के लिए गाँड़ में अंगुली डालें और अपनी झांटें खींचकर तीन बार अंगुली अंदर घुसाएँ।

    मगनलाल: बहन की लौड़ी, तेरी माँ की चूत, तुझे चोदने के लिए आया हूँ।

    रूबी: मुझे चोदने के लिए ग्राहक सेवा एक्ज़ीक्यूटिव से बात करें।

    मगनलाल (लगभग रोते हुए): भाड़ में गई ऐसी चूत। मादरचोद किस मनहूस से शादी कर ली।

    रूबी: कृपया लाइन पर बने रहें। आपका लंड कतार में है। हमारे आंतरिक प्रशिक्षण व प्रयोजन के लिए आपकी इस हरकत को रिकॉर्ड किया जा सकता है।
  • लंड पे निबन्ध:

    1. प्रस्तावना: लंड ये एक ऐसी चीज है जो धरती पर पाए जाने वाले प्रत्येक मर्द के पास पाया जाता है। इसका जन्म मानव शारीर के साथ ही हो जाता है। इसको शरीर का गन्दा तरल पदार्थ निकालने के लिए बनाया गया है लेकिन मानव ने इसके कई उपयोग किये हैं।

    2. प्रकार: लंड कई प्रकार के होते हैं पर चलन में मुख्य तरह के 4 लंड हैं:-
    i. टोपी वाला
    ii. चमड़ी वाला
    iii. टेड़ा
    iv. लटका हुआ
    यह दो साइजो में पाया जाता है, लम्बा एवम छोटा

    3. नाम: लंड को अलग - अलग जगह अलग - अलग नाम से पुकारा जाता है। कही लवड़ा, लौड़ा, मुन्नी,चुन्नू,घंटा, शिश्न,पेनिस,डंडा इत्यादि।

    4. प्रयोग: लंड के कई प्रयोग हैं। शुरुआत में यह शरीर के तरल अवयव बाहर निकलने के काम आता है। किशोर अवस्था आते आते इसके दुसरे प्रयोग समझ आते हैं।इसके अंदर कुछ हारमोन के कारण किशोरावस्था में हलचल चालू हो जाती है।बाद में युवा अवस्था में यह किसी भी महिला को देखकर व उनके उभार व गांड देखकर अपने आप हिलने लगता है। फिर यह खड़ा होने लगता है।

    5. किरयायें: लगभग 16 वर्ष आते - आते इसके आस पास घने बाल उग आते हैं। इसके बाद किशोरों को रात को कुछ सपने आते हैं अजीब से जिससे इसमे से कुछ चिकनाई युक्त पदार्थ निकलता है जो कि शुरू में किशोरों को डरा देता है। लेकिन कुछ समय बाद मजा आने पर किशोर अपने लंड की चमड़ी को आगे पीछे कर के माल(जिसे वीर्य कहा जाता है) निकालते हैं।वो फिर धीरे धीरे अपनी हम उम्र या बड़ी उम्र की महिलाओं के बारे सोच कर चमड़ी को आगे पीछे करते है। इस क्रिया को ह्स्त्मेथुन कहा जाता है। कुछ लोग इसे गणित की भाषा में 61-62 भी कहते हैं।

    6. नुकसान: ह्स्त्मेथुन क्रिया शरीर को काफी नुकसान पहुचाती है। इससे शारीर की नसें कमजोर पडती हैं। उंगलिया चटकनी पडती हैं। यदि लंड की बराबर सफाई न की जाए तो यह घातक हो जाता है। इसके आसपास काफी फोड़े फुंसी हो जाते है।

    7. चाहत: लंड की भी किसी इन्सान की तरह चाहत होती है। धीरे से घर वाले भी आपके लंड की चाहत को समझ कर इसके लिए एक गड्डे की व्यवस्था करने में लग जाते है। व्यवस्था होने के बाद शुरू होती है इसकी धमा - चौकड़ी। आपकी शादी होने से जितनी ख़ुशी आपको नही होती उससे ज्यादा खुश यह आपका लाडला होता है।फिर यह उस औरत के गड्डे में घुसता है। उसके मुह में घुसता है। गांड की और घुसने की कोशिश करता है और इस तरह से इसका नया उपयोग दिनो - दिन चालू हो जाता है।

    8. समापन: लंड यह प्रक्रति द्वारा बनाई गई एक ऐसी चीज है जिसके बिना दुनिया की कल्पना सम्भव नही है। भाइयो इसका खूब प्रयोग करो लेकिन अप्रकार्तिक मैथुन से बचते रहना नही तो इसकी उम्र कम हो जाती है। सही उपयोग जितना ज्यादा करोगे उतनी ही इसकी उम्र और आपकी तथा आपकी औरत की ख़ुशी बढेगी।

    आपके लंड को और शक्ति मिले इसी मंगलकामना के साथ आपके मित्र का प्रणाम।

    यह साहित्यिक क्रति कैसी लगी अपना मत दे हमारा हौसला बड़ेगा।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT